14 तरीके से आत्म सम्मान बढ़ाएं(आत्म सम्मान क्यों बढ़ाना चाहिए )

14 तरीके से आत्म सम्मान बढ़ाएं(आत्म सम्मान क्यों बढ़ाना चाहिए )

Rate this post

14 तरीके से आत्म सम्मान बढ़ाएं(आत्म सम्मान क्यों बढ़ाना चाहिए )

Contents

दोस्तों आप जिंदगी में कैसे निर्णय लेते हैं ?किस तरह कामयाबी की बुलंदियों को छू रहे हैं ? या किस तरह से अपने रिश्तों को मजबूत कर रहे हैं ?यह सब बातें सिर्फ एक चीज पर निर्भर करती है वह है Self-esteem (आत्मसम्मान )

14 तरीके से आत्म सम्मान बढ़ाएं(आत्म सम्मान क्यों बढ़ाना चाहिए )

जिन लोगों के पास Self-esteem कम होता है वह अक्सर निराशा भरी जिंदगी जीते हैं । आज आप इस लेख से जानेंगे आत्मसम्मान क्यों जरूरी होता है ? और आत्मसम्मान (self Esteem ) को कैसे बढ़ा सकते हैं ?

सब से पहले तो हम यह जानते हैं कि SeIF Esteem का मतलब क्या होता है ?

What is self esteem in Hindi?

self का मतलब है स्वयं और Esteem का मतलब है प्रशंसा करना । इन दोनों को मिलाने के बाद इसका अर्थ होता है स्वयं की इज्जत करना ।

सरल भाषा में Self-Esteem का अर्थ होता है अपने किए हुए फैसलों पर यकीन करना,अपने आप से प्यार करना और अपनी इज्जत करना ।

जो इंसान अपने वचनों को पूरा नहीं करता है अपने वचनों को अनसुना कहता है वहां कभी कामयाब नहीं हो पाता इसलिए सफलता पाना है या जीवन में खुश रहना है तो आपमें self Esteem होना ही चाहिए ।

यदि आप हर मोड़ पर कामयाबी का चेहरा देखना चाहते हैं तो सबसे पहले अपने अंदर Self esteem लाऐ ।

महान पुरुष कहते हैं कि यदि आपके पास आत्मसम्मान है तो जीवन में आप कोई भी लक्ष्य प्राप्त कर सकते हैं यदि आप ही अपना सम्मान नहीं करेंगे तो कोई अन्य व्यक्ति क्यों करेगा ?

14 तरीके से आत्म सम्मान बढ़ाएं(आत्म सम्मान क्यों बढ़ाना चाहिए )

*Living cautiously– हमें से कई लोग ऐसे हैं जो वर्तमान में रहते हुए भी हम वर्तमान में नहीं रहते । मेरे कहने का तात्पर्य है कि यदि आप कोई कार्य कर रहे हैं तो उसी कार्य में पूरा ध्यान केंद्रित कीजिए अन्यथा वह कार्य भी अच्छे से नहीं कर पाएंगे ।

जो लोग वर्तमान में हर कार्य cautiously  करते हैं उन्हें ही कामयाबी मिलती है और उनका आत्मविश्वास दिन-ब-दिन बढ़ते जाता है ।

आपने अगर सोचा होगा तो एक बात तो जरूर दिमाग में आई होगी कि अन्य दिन कैसे पार हो जाते हैं समझ ही नहीं आता लेकिन जिस समय आप पिकनिक में गए होते हो या कोई फंक्शन कर रहे होते हो उस समय एक एक पल कैसे बीता है आपको मालूम होता है ।इसकी वजह यह है कि पिकनिक या फंक्शन करते समय हम हर एक पल को consciously enjoy करते है ।

इसलिए अगर आप ऑफिस में कार्य कर रहे हैं तो ऑफिस के कार्य में ही ध्यान दें ,ना कि घर की कोई समस्या आपके इर्द-गिर्द घूम रही हो । यदि आप घर में हैं तो घर के लोगों के साथ अपना क्वालिटी टाइम spent कीजिए ऐसा करने से ही पर्सनल personal or professional life को हैंडल कर पाएंगे ।

कई बार ऐसा होता है कि दूसरों की मदद करते समय हम अपना कार्य छोड़ देते हैं ऐसा कहना हमारी मूर्खता होती है । यदि कोई व्यक्ति अपने श्रेष्ठ कार्य को छोड़कर अन्य व्यक्तियों की मदद करने लग जाएगा तो उसका कार्य कभी भी नहीं हो पाएगा इसी कारण से उसका आत्मसम्मान भी चकनाचूर हो जाएगा ।

इसी प्रकार से यदि आप अपने आप में कम आत्मविश्वास रखते हैं तो अन्य व्यक्ति आप पर विश्वास कैसे कर सकते हैं ?यदि जीवन में कुछ बड़ा हासिल करना है तो consciously रहना सीख जाऐं ।

Also read👇👇

(Concentration kaise badhaye in Hindi ? 10 कारण जो आपकी एकाग्रता को कौन नष्ट कर देता है ?

सेहत के लिए कितना हानिकारक है मोबाइल रेडिएशन /mobile radiation se khud Ko kaise bachayen

*Self-Acceptance

कई बार ऐसे ही सिचुएशन हमारे सामने होती है जिसमें हमें अपने आप को स्वीकार करना चाहिए ।मुझे आज भी याद है जब मैं युवावस्था में थी तो मेरे चेहरे में एक्ने प्रॉब्लम हो जाती थी ।उस समय में किसी से भी बात करने समय झिझक महसूस करती थी और चाहती थी कि मैं लोगों से दूरी बना कर रखो जब तक मेरे फेस में acne प्रॉब्लम है ।कई लोगों ने मुझे समझाया कि यहां नॉर्मल है लेकिन मैं अपने आपको एक्सेप्ट नहीं कर रही थी ।

इसी वजह से मैंने कई मौके छोड़े , वह मौके मुझे जिंदगी में कामयाबी की ओर लेकर जा सकते थे ।इसी वजह से मेरा आत्मसम्मान भी गिर गया । यह बात मैं आपको इसलिए बता रही हूं कि यदि आप अपना आत्मसम्मान बनाना चाहते हैं तो आपको अपने आप को स्वीकार करना चाहिए ।

देखें दोस्तों जीवन में हमेशा दो situation हमारे सामने आती है पहली सिचुएशन हमारे पास मौका होता है अपनी प्रॉब्लम्स को दूर करने का और उसे दूर करने के बाद हम अपना आत्मसम्मान बढ़ा सकते हैं ।

जैसे कि यदि कोई व्यक्ति मोटा है तो उसे अपने आप को स्वीकार नहीं करना चाहिए क्योंकि यह दिक्कत वह एक्सरसाइज करके और डाइट के साथ दूर कर सकता है ।

दूसरी situation मान लीजिए कि कोई व्यक्ति कद में छोटा है उस समय वह लाख कोशिश करने के बाद भी अपनी हाइट नहीं बना पा रहा तो उस समय उसे अपने आप को स्वीकार कर लेना चाहिए क्योंकि यह दिक्कत genetically हो सकती है ।

जिस सिचुएशन को हम कंट्रोल नहीं कर सकते उसे एक्सेप्ट कर लेना चाहिए इससे आत्म सम्मान नहीं गिरता बल्कि जब इंसान अपने आप को स्वीकार कर लेता है तो वह अपने लक्ष्य की ओर कदम बढ़ाता है ना कि बेवजह की बातों में उलझा रहता है ।

*Self-assertiveness

ज्यादातर दो तरह के इंसान पाए जाते हैं पहले passive type

और दूसरे aggressive type .

यदि टिकट की लाइन में passive type person खड़ा है और उस लाइन में कोई व्यक्ति घुस जाए तो passive type person को गुस्सा आएगा लेकिन वह अपने गुस्से को अपने अंदर ही रखेगा ।

इस टाइप की personality लोगों को अपना विचार बताते समय घबराते हैं और यह जल्दी से “ना ” नहीं कह पाते । जिसकी वजह से लोग इनकी कमी का फायदा उठाते हैं ।

यदि टिकट की लाइन में aggressive type person खड़ा हो तो वह अपने गुस्से को बयान कर देता है ।इस टाइप के personality वाले लोग किसी को पसंद नहीं आते इसलिए आपको दोनों टाइप की personality छोड़कर assertive type personality अपनानी चाहिए ।

इस तरह की पर्सनालिटी अपने विचारों को दूसरों के सामने रखते समय झिझक महसूस नहीं कहते हैं , इन्हें बात करने का तरीका आता है । वे polite होकर सब कार्य करते हैं जो वह करना चाहते हैं ।

Self esteem बढ़ाने के लिए आपको assertive type personality का चयन करना चाहिए ।

*अपनी तारीफ खुद करें –

ज्यादातर लोग दूसरे की गई प्रशंसा पर ही यकीन करते हैं जबकि इंसान को खुद भी अपनी तारीफ करनी चाहिए । जब भी आप अच्छा कार्य करें तो अपनी तारीफ करें ऐसा करने से भी आपका मनोबल पड़ता है ।

14 तरीके से आत्म सम्मान बढ़ाएं(आत्म सम्मान क्यों बढ़ाना चाहिए )

14 तरीके से आत्म सम्मान बढ़ाएं(आत्म सम्मान क्यों बढ़ाना चाहिए )

*अपनी कमजोरियों को दूर करने का प्रयास करें –

इंसान को मालूम होता है कि उसके अंदर कौन-कौन सी कमियां है । जब आपको मालूम चल जाए कि आपके अंदर कौन सी कमजोरी है तो उस कमजोरी का सामना करें और अपने जीवन से दूर भगाएं ।

*अपने आप से प्यार करना सीखें –

इंसान को अपने आप से प्यार करना चाहिए जब हम अपने आपसे प्यार करते हैं तो अपने गुणों को दिन प्रतिदिन बढ़ाने का प्रयास करते है , इससे हमारा आत्मसम्मान भी बढ़ता है ।

*अपने विचारों को कहीं लिखें

कई बार ऐसा होता है कि नकारात्मक सोच हम पर हावी पड़ जाती है ऐसे में यदि आप अपने नकारात्मक विचारों को कहीं लिख देंगे उसका परिणाम भी सोच लें ऐसा करने से आप परिस्थिति का सामना करने के लिए तैयार हो जाएंगे ।

*अपना new version बनाएं –

अपने आपको हमेशा व्यस्त रखें और नया सीखने का प्रयास करते रहे । ऐसा करने से आप दिन प्रतिदिन बेहतर बनते जाएंगे ।

*अपनी तारीफ कबूल करें –

कई बार ऐसा होता है कि हम अपनी तारीफ को कबूल नहीं कर पाते ।जब आपको लगे कि सामने वाला व्यक्ति आपकी सच्ची तारीफ कर रहा है तो उसे जरूर कबूल करें ऐसा करने से आप तक आपका आत्मसम्मान बढ़ता है ।

*अपनी Priority समझे –

कई बार ऐसा होता है कि हम सब कार्य करना चाहते हैं इसी वजह से कोई भी एक कार्य पर माहिर नहीं बन पाते । इससे होता यह है कि हमारा आत्म सम्मान गिर जाता है ।

यदि आप अपना कॉन्फिडेंस बढ़ाना चाहते हैं तो अपने priority को समझे जो काम अधिक महत्वपूर्ण है उसे पहले करें ।

*Strategy बनाने –

अक्सर आपने लोगों को पिकनिक में जाने से पहले प्लानिंग करते हुए सुना होगा ।लेकिन कुछ लोग ही ऐसे होते हैं जो अपने दिन की शुरुआत प्लानिंग के साथ करते हैं ऐसा करने से वे सब कार्य समय के मुताबिक करते है ।आप भी स्ट्रेटजी बनाएं और अपना आत्म सम्मान बढ़ाएं ।

*अपनी strengths and weaknesses को समझें –

जब व्यक्ति strengths and weaknesses को समझ आता है तो अपने ताकत को दुगुना बढ़ाता है और कमजोरियों को दूर करने का प्रयास करता है ।आत्म सम्मान बढ़ाने के लिए अपनी कमजोरियों को नजरअंदाज करना मूर्खता है इसलिए इंसान को अपनी कमजोरियां समझनी चाहिए और उसे दूर करने का प्रयास करना चाहिए ।

*अपने सफलताओं को याद रखें

ऐसा होता है जब व्यक्ति असफल होता है तो वहां निराश हो जाता है उस समय आपको अपनी सफलता याद करनी है क्योंकि जब हम सफल होते हैं तो जो हमारा आत्मसम्मान बढ़ता है उससे हम बड़ी से बड़ी चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार रहते हैं

लेकिन असफलता का चेहरा देखने के बाद हम घबरा जाते हैं और सोचते हैं कि हमारे बस की बात नहीं है लेकिन असफलताओं से घबराए नहीं ।हिम्मत से आगे बढ़े और अपनी सफलताओं को याद रखें ।

* सकारात्मक विचारों की ताकत को समझें –

कहते हैं कि वचनों में इतनी ताकत है कि इंसान अपनी किस्मत खुद बदल सकता है यदि आप खुद अपने आपको कहेंगे कि “मैं कर सकता हूं “तो यकीन मानिए आप कर सकते हैं ।

* अपना रोल मॉडल बनाएं

आप जिन्हें रोल मॉडल बना रहे हैं इसका मतलब है कि उसके अंदर की खूबी आपको पसंद है इसलिए आप उसे अपना रोल मॉडल बना रहे हैं रोल मॉडल से आपको सकारात्मक विचार , हिम्मत,शक्ति मिलेगी जिसके कारण आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा ।

*इमोशंस पर काबू करें –

गुस्से में या भावनाओं में बहकर कोई निर्णय न ले । यदि सफल होना चाहते हैं तो सोचे कि कौन से रास्ते में चलने से आप लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं । कभी परेशानी आए तो रास्ता बदले न कि अपना लक्ष्य ।यदि आप पल-पल लक्ष्य बदलने की सोचेंगे तो आपका आत्मसम्मान गिर जाएगा और कभी सफल नहीं बन पाएंगे इसलिए विचार करें फिर ही कदम उठाएं ।

Self-esteem क्यों जरूरी होती है?

*Self-esteem होने की वजह से आप कभी भी नए काम की शुरुआत करते समय घबराते नहीं हैं । जो इंसान सीखने से नहीं घबराता है वो जल्द ही कामयाब हो जाता है ।

जो इंसान अपने अंदर शंका रखता है वहां कभी कामयाब हो ही नहीं सकता इसलिए इंसान के अंदर Self-esteem होना जरूरी है ।

* Self-Esteem होने की वजह से ही आप सही अपेक्षा रखते हैं जब आप गलत अपेक्षा नहीं रखेंगे तो कभी भी धोखा नहीं खाएंगे ।

सही अपेक्षा ही इंसान को सही रास्ते लेकर जाती है और गलत अपेक्षा आपके जीवन को नष्ट कर देती है इसलिए सही अपेक्षा रखना बेहद जरूरी है ।

*Self-Esteem होने से हम अपने रिश्ते भी मजबूत बनाकर रखते हैं क्योंकि जो इंसान खुद से प्यार करता है उसे प्यार का मतलब पता होता है इसी वजह से वह अपने हर एक रिश्ते को अच्छे से निभा पाता है ।

*Self-Esteem होने से आप अपने आप को बहुत अच्छे से समझ सकते हैं । आपको मालूम है कि आपकी क्या जरूरत है और जब इंसान को यह पता होता है कि उसे जीवन में क्या चाहिए तो उसे अच्छे से व्यक्त कर पाता है ।

आपने ऐसे लोगों को भी देखा होगा जिन्हें यही समझ नहीं आता है कि उन्हें जीवन में चाहिए क्या ?

Advantage of self esteem के Hindi (आत्म सम्मान होने के फायदे)

*Self-Esteem से ही आप जीवन में अपने लक्ष्य की ओर बढ़ पाते हैं जब सकारात्मक ऊर्जा के साथ आप कार्य करते हैं तो जीवन में कामयाब होना तय है ।

*दूसरा फायदा यह है कि मानसिक तौर से आप खुश रहते हैं ।

*तीसरा फायदा यह है कि आप चुनौतियों से घबराते नहीं हैं । चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार रहते हैं ।

*सबसे महत्वपूर्ण फायदा यह है कि आप अपने ऊपर तनाव हावी नहीं होने देते और अपना फोकस अपने लक्ष्य की ओर बनाए रखते हैं ।

Disadvantages of self esteem in Hindi?(आत्म सम्मान न होने के नुकसान)

*low self esteem आप कभी अपना लक्ष्य नहीं पा पाते हमेशा नकारात्मक सोच में उलझे रहते हैं ।

*मानसिक बीमारियों से घिरे रहना और असहाय महसूस करना ।

*लोगों के द्वारा नकारात्मक शब्दों को अपने ऊपर हावी कर लेने ।

उम्मीद है दोस्तों आपको यह लेख 14 तरीके से आत्म सम्मान बढ़ाएं(आत्म सम्मान क्यों बढ़ाना चाहिए ) पसंद आया होगा ।अपने कमेंट के जरिए जरूर बताइएगा कि आपने कौन सा पॉइंट ज्यादा पसंद किया और आप अपनी लाइफ में क्या changes लाने वाले हो ।

आपको यह लेख मददगार लगा हो तो अन्य  व्यक्तियों के साथ शेयर करना न भूले ।अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद🙏🏼🙂

Related Posts

4 thoughts on “14 तरीके से आत्म सम्मान बढ़ाएं(आत्म सम्मान क्यों बढ़ाना चाहिए )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Follow by Email
YouTube
Pinterest
Instagram