18 Minutes Book Summary in Hindi

Kya aap Safal bana chahte :18 Minutes Book Summary in Hindi

इस लेख “18 Minutes Book Summary in Hindi ” में आप समझेंगे focus कैसे बनाएं और distraction सें कैसे बचना हैं ।

18 Minutes Book Summary in Hindi

सपने देखना और उसके पीछे भागना एक आम बात है क्योंकि हर कोई अपने जीवन में एक खास व्यक्ति बनना चाहता है ।

इस किताब के लेखक पीटर ब्रैगमैन कहते हैं कि इंसान 18 मिनट का सही उपयोग करके अपने जीवन में बहुत बड़ा बदलाव ला सकता है ।

सुनने में मजाक लग रहा है ना , कि 18 मिनट से क्या ही बदलेगा ! दोस्तों आप 18 मिनट का सही उपयोग करके केवल अपने लक्ष्य तक ही नहीं पहुंचेंगे बल्कि आप अपने जीवन में बड़ा बदलाव ला सकते हैं ।

इस लेख “18 Minutes Book Summary in Hindi ” से आप समझेंगे कि कैसे आपके छोटे-छोटे कदम आपके जीवन में बड़े बदलाव लाएगा कैसे आप अपने विचारों को सही करके अपने जीवन में बड़ा बदलाव लाएंगे और कैसे अपने लक्ष्य तक निर्धारित समय तक पहुंच पाएंगे ।

अगर संक्षिप्त में कहूं इस किताब “18 Minutes Book ” के बारे में तो दोस्तों जीवन के किस मार्ग पर कैसे आपको डिसीजन लेना है ? कैसे अपने निर्धारित समय पर अपना कार्य समाप्त करना है और परिवर्तन से नहीं घबराता है ,इस बात को बहुत ही बेहतरीन ढंग से इस किताब में समझाया गया है ।

क्या आप तैयार है ? अपने जिंदगी में बहुत बदलाव लाने के लिए तो आप इस लेख को अंत तक पढ़िए और जानिए ।

😀इस लेख में आपको चार ऐसे एलिमेंट्स बताए जाएंगे जिसके जरिए आप तय कर सकते हैं कि आपको अगला कदम क्या रखना चाहिए l

इस शो शराबे की दुनिया में हम सब गलतियों से डरते हैं पर सोचते हैं कि कोई भी कार्य स्पीड में किया जाए तो बेहतर है लेकिन अगर आपको कभी महसूस हो कि आप कहीं गलती कर रहे हैं तो कुछ टाइम का ब्रेक लेकर अपने विचारों को एक बार समझे ,अपनी प्लानिंग को एक बार recall करे ताकि आप समझ सके कि आपसे गलती कहां हो रही है ?

Focus Kaise Banaye Rakhe (18 Minutes Book Summary )

फर्स्ट एलिमेंट 

आपको अपनी ताकत के बारे में पता होना चाहिए ताकि आप उसमें इंप्रूवमेंट ला सके और उस कार्य में बेस्ट बन जाए ताकि आप अन्य लोगों से भिन्न बन जाएं ।दोस्तों जब आपका फॉक्स उस कार्य में होंगे जिसमें आप बेस्ट है तो यकीन मानिए आपको टक्कर देना आसान नहीं रहेगा ।

सेकंड एलिमेंट – अपनी कमजोरी को समझें और उसे दूर करें ,हो सके तो उस कमजोरी का फायदा उठाना भी सीखे ।दोस्तों कुछ कमजोरी में सुधार लाया जा सकता है लेकिन कुछ कमजोरियां ऐसी होती हैं जिसमें इंसान बदलाव नहीं ला सकता इसलिए उन कमजोरी के बारे में सोचना बंद करें और आगे बढ़ते रहें ।

थर्ड एलिमेंट – बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जिसमें कोई अलग बात होती है अगर आप भी उनमें से एक हैं तो अपने आप में परिवर्तन ना लाएं क्योंकि लोगों की भीड़ में अपने आप को अलग दिखाने का आपके सामने मौका है ।

भीड़ में चलने वाले लोग हमेशा भीड़ में ही छुप जाते हैं लेकिन जिनमें कोई बात अलग होती है ,वह दुनिया के सामने छा जाते हैं ।

फोर्थ एलिमेंट

अपना पैशन ढूंढे और उसे पर कार्य करना शुरू करें जब आने वाले साल की प्लानिंग कर रहे होंगे तब आपका फॉक्स आपके कार्य पर होगा ना कि उन कार्यों पर जिससे पैसा बनाते हैं ।

पैशन के कार्य करते समय इंसान ज्यादा विचार नहीं करता है इसलिए इंसान को वही कर चुनना चाहिए जिसमें उसका दिलचस्प हो।

आप सब ने जॉफ का नाम सुना होगा जो की बहुत सक्सेसफुल फेमस व्यक्ति हैं इन्होंने चैरिटी फाउंडेशन में अपनी जायदाद का बड़ा हिस्सा दिया है यह कार्य उनकी सबसे बड़ी अचीवमेंट है ।

एक बार की बात है जब अपने दोस्त के साथ लंच करने के लिए जॉफ बाहर जाते हैं ।वह वेटर से जब जॉफ ने कहा कि उन्हें श्रिंप सैलेड मंगवाया लेकिन जॉफ श्रिंप सलमन के साथ चाहते थे ।

18 Minutes Book Summary in Hindi

वॉटर मुस्कुराते हुए जॉफ को कहता है कि वह श्रिंप सलमान के साथ ले आएंगे लेकिन इसके लिए उन्हें $1 एक्स्ट्रा Pay करना होगा । यह बात सुनने के बाद जॉफ कुछ समय सोचते हैं फिर अपना आर्डर cancel कर देते हैं ।

जॉफ की सोच है कि जब तक पैसे के बदले डबल मुनाफा ना हो तब तक Deal पक्की नहीं करनी चाहिए ।

जॉफ की सोच ही अन्य लोगों से अलग है इसलिए वह व्यक्ति सक्सेसफुल आदमी बना है ।

हो सकता है आप में से कुछ लोग सोच रहे होंगे कि जॉफ एक कंजूस आदमी है लेकिन उनके द्वारा बनाए गए प्रिंसिपल्स वह फॉलो करते हैं जिनकी वजह से उनकी पहचान भीड़ में नहीं होती है ।

जो भी इंसान सक्सेसफुल बना है वह अपने प्रिंसिपल को जरूर फॉलो करता है आपको सबसे पहले category बनानी है जिसमें आपको ऐसे पांच कार्य रखने हैं जो आपके लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है फिर अन्य कार्य के लिए एक Second category बनानी है जिसमें आपको वह कार्य लिखने हैं जो आप आज भी कर सकते हैं या कल के लिए टाल दे सकते हैं ।

👌कोई भी टास्क को आपको ज्यादा से ज्यादा तीन-चार दिन तक रखना चाहिए और उसे कंप्लीट कर देना चाहिए ताकि आपका Self confident डगमगाएं न ।

क्योंकि जब इंसान अपने काम को अधूरा रखता है उसका Self confident की धज्जियां उड़ जाती है और वह कभी भी अपने आप पर यकीन नहीं कर पाता ।

खुद को कामयाब बनाना है और दूसरों से अलग बना है तो दोस्तों अपनी कमजोरी और ताकत को पहचाना सीखो ताकि आप उसमें कुछ बदलाव लाकर अपनी जिंदगी बदल पाओ ।

एक ऐसे व्यक्ति का एग्जांपल देने वाली हूं जो लोगों की नजरों में सक्सेसफुल , ईमानदार ,अच्छे व्यक्ति और खुशहाल जीवन से भरे पड़े थे ।एक बार की बात है जब उस व्यक्ति को गुस्सा आ गया और गुस्से में उसने गिलास फेककर सामने वाले व्यक्ति को मार दिया हालांकि कुछ मिनट में ही उन्हें realize हो गया कि उन्होंने गलती की इसलिए माफी भी मांगी लेकिन दोस्तों ! जो हमारा रवैया होता है उसी से हमारी पहचान बनती और बिगड़ती है ।

जो व्यक्ति सबके सामने एक ईमानदार और श्रेष्ठ व्यक्ति रहा है उसकी छवि खराब होने लगी ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उसके कैटेगरी में जो उसने टास्क रखे थे वह समय से उन्हें कर नहीं पा रहा था ।

Read more👇👇

Jeevan Ko Banayein Swarg:The Heavenly life Book Summary in Hindi

जानिए सबसे चर्चित बुक का रहस्य: The Secret Book Summary in Hindi PDF

ऐसा हम आम लोगों के साथ भी होता है कि हम कैटेगरी में अपने कार्य रखते जरूर है लेकिन उन्हें सही समय पर समाप्त नहीं कर पाते । ऐसे में हमारा गुस्सा बढ़ाते जाता है जिसकी वजह से हम ऐसे कार्य कर बैठे हैं जो हम अपने जीवन में कभी नहीं करना चाहते ।

ऐसी स्थिति में बचने के लिए अपने मोबाइल में हर एक घंटे का अलार्म लगाएं और दो सवाल पूछे पहला सवाल यह है कि बीता हुआ एक घंटा क्या आपके लिए प्रोडक्टिव रहा ?

अगर नहीं रहा तो आने वाले 1 घंटे को वह कैसे प्रोडक्टिव बन सकता है ?

यकीन मानिए यह दो सवाल आपकी जिंदगी बदल कर रख सकते हैं जब आप अपना पूरा फोकस अपने कार्य में रखेंगे तो हो ही नही सकता कि आपका कार्य निर्धारित समय में समाप्त न हो ।

तीसरा स्ट्रेटेजी समझने से आपका जीवन जीने का अंदाज ही बदल जाएगा ।एक व्यक्ति था जो अपनी फील्ड का बादशाह था लेकिन उसे सब मालूम होता था कि कब , कहां ,कैसे अपनी बात को रखना है और कब अपने रास्ते को बदलना है । वह व्यक्ति “डॉकर एलन रोसेन ” हैं ,पेशे से एक डॉक्टर थे एक बार उनका फ्रेंड “ली ” ने वैक्सीनेशन के ऊपर डिबेट करनी चाहिए ।डॉकर एलन रोसेन का कहना था कि वैक्सीनेशन अच्छी होती है ।

वैक्सीनेशन के कारण ही हम लाखों लोगों को बचा पाते हैं और कई तरह की diseases से उनका बचाव होता है ।

दूसरी ओर ली का कहना था की वैक्सीनेशन अच्छी नहीं होती है और मैंने एक आर्टिकल पढ़ा है जिसमें बताया गया है कि वैक्सीनेशन इंसानों के लिए सही नहीं होती है ।

अपनी फील्ड में एक्सपर्ट होने के बावजूद वह अपने दोस्त को तुरंत रिप्लाई दे सकते थे कि मुझे तुमसे एक्सपीरियंस है लेकिन अपनी बात को न बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि ठीक है मैं उस आर्टिकल्स को जरूर पढ़ूंगा ताकि मैं समझ सकूं कि ऐसा क्यों कहा गया है ?

दोस्तों समझदारी यहां होती है कि हम परिस्थितियों को कैसे कंट्रोल करें ना की बहस करने में होता है । मान लेते है कि आपने कोई बिजनेस शुरू किया हो लेकिन कुछ समय बाद आपको एहसास हो रहा हो कि आपने गलत निर्णय ले लिया है , उस समय पीछे हटते समय आपको ज्यादा विचार नहीं करना चाहिए ।

कई बार ऐसी परिस्थितियों होती है जिसमें हमें लगता है कि आगे बढ़ाना समझदारी वाली बात नहीं है तो उस समय आपको रुक जाना चाहिए और सोचना चाहिए कि कहां बदलाव करने से आप सुरक्षित रह सकते हैं ।

बहुत लोगों को लगता है कि अगर हम कदम अपने पीछे ले ले तो हमारा सामान ,पोजीशन और पावर खो बैठेंगे जबकि इसका उल्टा होता है ।

जब भी आपसे कहीं गलती हो या लगे कि आगे बढ़ाना सही नहीं है तो रुक कर थोड़ा सोच लेना ज्यादा बेहतर निर्णय होता है ।

अपने आप को सक्सेसफुल और कामयाब बनाने का सिर्फ एक ही मंत्र है जब लगे की गलती हो गई है तब कुछ समय ठहरे और अपने निर्णय पर विचार करते हुए नए सिरे से शुरू करें ताकि अपने भविष्य को उज्ज्वल बना सके ।

Time Management Kaise kare in Hindi

🌹दोस्तों हम सब की यहां शिकायत होती है कि हमारे पास समय कम है लेकिन अगर आप To do list बनाते हैं और हर दिन उस लिस्ट के अकॉर्डिंग अपने कार्य की शुरुआत करते हैं तो यकीन मानिए आप अपने काम समय पर निपटा पाएंगे ।

दूसरा काम आपको यह करना है कि आपको खुद से पूछना है कि कार्य को मैं सही से कर रहा हूं कि नहीं !

18 मिनट्स टेक्निक को अपनाने के लिए सबसे पहले रोजाना आपको 5 मिनट निकालना है उसमे लिखना है कि आपको इस दिन कौन-कौन से कार्य करना है फिर अपने प्रोडक्टिविटी हर एक घंटे में चेक करनी है ।फिर दिन के अंत में 5 मिनट निकालने हैं और खुद से पूछना है कि आपने अपना बेस्ट दिया कि नहीं ? मतलब रिव्यू करें ताकि आप समझ सके कहां आपको ज्यादा इंप्रूवमेंट लाना होगा ।

🙂🙂एक और एग्जांपल देती हूं जिसमें जैक ललानयाद के बारे में एक महत्वपूर्ण जानकारी मिलेगी । 90 साल की आयु तक यह जीवित रहे और इन्होंने कई बुक पब्लिश कि उनकी लास्ट बुक का नाम लिव यंग फॉरएवर । एक बेहतरीन जीवन इन्होंने जिया क्योंकि इनकी सॉलिड रूटिंग उनके लिए rituals के समान थी ।

🌹🌹उनका बिलीव सिस्टम इतना स्ट्रांग था कि 90 साल की आयु में भी वेट लिफ्ट करते थे ,पुस्तक पब्लिश करते थे और यह रूटीन उनका इतना पक्का था कि वह एक दिन की छुट्टी लेना नहीं चाहते थे ।

एक्स्ट्राऑर्डिनरी और सक्सेसफुल बनना चाहते हैं तो ऐसे महान लोगों को फॉलो करें ताकि आप भी अपने जीवन में बड़ा बदलाव ला सके ।

How to Stop Procrastinating forever in Hindi (18 Minutes Book Summary )

😀क्या आप भी सोचते हैं कि आपके पास बहुत सारे काम है जिसकी वजह से आप हर समय थका और खुद को लाचार समझते हैं ऐसा नहीं है बल्कि सच्चाई इसके विपरीत है जब आप खुद विचार करेंगे कि कौन से महत्वपूर्ण कार्य आपको इस समय करने हैं तो आप समझ पाएंगे कि कैलेंडर में तो कई बातें अपने ऐसे ही लिखी है लेकिन विशेष ध्यान देने वाली बात सिर्फ इन पांचो में है ।

आपको एक Category बनानी है जिसमें पांच कार्य लिखने हैं तीन ऐसे लक्ष्य जिसमें आप अपने करियर को बढ़ोतरी की हो लेकर जा सकती हैं और तो दो लक्ष्य ऐसे लिखने हैं जिसमें आप अपने पर्सनल लाइफ में इंप्रूवमेंट ला सकते हैं ।

👉👉कामों को कैसे लिस्टिंग करना है यह पर तो आप ही को तय करना होगा कि कौन से काम को आप ज्यादा फोकस्ड करना चाहती हैं ।

पांच बातों को ध्यान रखें

  • अनावश्यक कार्यों को अपनी लिस्ट में शामिल न करें ।
  • अपने लक्ष्य के प्रति फोकस रहे ।
  • अपनी प्रोडक्टिविटी पर गौर करें और डिस्ट्रक्शन से बचे रहे ।
  • अपने हर एक दिन का रिव्यू खुद करें ताकि आप समझ सके कि आपका समय कैसे बीत रहा है ।
  • एक कहावत हमेशा खुद से कहते रहे “कभी-कभी कम भी ज्यादा होता है “ऐसा कहने से आप मोटिवेट रहेंगे क्योंकि रोज का छोटा कदम आपको आपकी मंजिल तक पहुंचा सकता है इसलिए छोटे कदम उठाते समय झिझक महसूस मत करें ।

कई बार ऐसा होता है कि इंसान अपनी असफलताओं का दोष दूसरे पर लगा देते हैं जैसे कि अगर कोई सब्जेक्ट में फेल हो जाते हो तो आप यह कभी नहीं कहते हैं कि मैं इस विषय पर ध्यान नहीं दिया बल्कि आप कहते हैं कि इस सब्जेक्ट का टीचर ही सही नहीं था इसलिए मुझे इस विषय में अच्छे अंक नहीं मिले ।

दोस्तों बहुत आसान होता है दूसरों पर इल्जाम लगाना लेकिन ऐसा करने से आप खुद का नियंत्रण खो बैठते हैं ।

इस बात को अपने पक्ष में करने के लिए आप एक तरीका आजमा सकते हैं , इसमें आपको सोचना है कि आपको नतीजा क्या चाहिए ।

जब आप यह सोच लेंगे कि मेरे इस कार्य से मुझे यहां नतीजा मिलेगा तो यकीन मानिए नियंत्रण आपके जीवन का आपके हाथ में होगा ।

Don’t React But Respond (18 Minutes by Peter Bregman Book Summary book 📚 📚 📚 )

🌹🌹🌹दोस्तों कई बार ऐसा होता है कि हमारे रिएक्ट करने की वजह से हमें मनचाहा नतीजा नहीं मिलता है । परिस्थितियों को अपने काबू में करना चाहते हैं तो रिएक्ट करने से पहले सोचे कि कहीं आपके लक्ष्य पर इसका असर तो नहीं पड़ेगा ,कहीं आपका जीवन आपका गलत रिएक्ट के कारण खराब तो नहीं हो जाएगा ।

कई बार ऐसा होता है कि हमारे साधारण से रिएक्ट के कारण भी हमारा भविष्य खराब हो जाता है इसलिए जब भी कोई कार्य करें यह सोचकर ना करें कि सामने वाले व्यक्ति गलत है तो हम उसके साथ Deal नहीं करेंगे ।

दोस्तों दुनिया में कोई भी परफेक्ट नहीं होता है लेकिन जब हम बिजनेस करते हैं तो एक दूसरे की कमजोरी को समझते हुए उसे दूर करें और अपनी strength बढ़ाएं ।

अपनी लाइफ में एक नया मोड़ लाने के लिए आपको निर्णय करने होंगे ।जीवन को नई दिशा में लाना इतना आसानी नही होता है आपको अपना दिमाग का उपयोग करना होगा और दिमाग का इस्तेमाल करते समय आपको महत्वपूर्ण एलिमेंट्स पर ध्यान देना जरूरी है ।

  • अपनी क्षमताओं का सही उपयोग करना सीखें ।
  • अपनी कमजोरी को समझते हुए उन्हें सुधारने का प्रयास करें ।
  • अपने पैशन को जाने और उसे फॉलो करें ।

इस किताब की समरी से हम सब समझते हैं कि हमें हर साल अपने जीवन में प्रमुख क्षेत्रों को ज्यादा महत्व देना चाहिए ।अगर हम 5 से ज्यादा गोल बनाने का प्रयास करेंगे तो हम गुम हो जाएंगे , हम एक में भी कामयाब नहीं हो पाएंगे ।

इसलिए रोजाना हमें 18 मिनट तकनीक को फॉलो करना चाहिए । यह तकनीक हमें सिखाती है कि डिस्ट्रक्शन को दूर करने और फोकस बनाए रखने के लिए हमें हर दिन 5 मिनट अपने दिन के लिए योजना तैयार करनी होगी ।

इस योजना को हमें हर एक घंटे में चेक करना होगा कि हम अपने समय का सदुपयोग कर रहे हैं कि नहीं ? जब हम अपनी प्रोडक्टिविटी चेक करने लग जाएंगे तब हम खुद डिसाइड कर पाएंगे कि हमने अपने समय का सदुपयोग किया है या नहीं ।

अगर आपने अपने एक घंटे का समय को सही से उपयोग नहीं किया है तो अपने आप को खुद instruction दीजिए और कहे की आने वाली समय का मैं बेस्ट उपयोग करूंगा ।

दिन के अंत में आपको अपने पूरे दिन का रिव्यू करना है ताकि आप समझ सके कि आपका दिन कैसे बीता ?यकीन मानिए दोस्तों जो भी इंसान आज की डेट में सक्सेसफुल है , उसने रिचुअल्स को फॉलो किया है । उसने तकनीक को अपनाया है ताकि वह डिस्ट्रक्शन से दूर रहे और अपना पूरा फोकस्ड अपने कार्य पर कर पाएं ।

जो इंसान अपना कार्य कर पाएगा , टाइम से वही आगे बढ़ पाएगा वरना जितनी मर्जी किताबें पढ़ लो वही के वहीं रह जाओगे ।😌😌

उम्मीद है कि आपको इस लेख “18 Minutes Book Summary in Hindi  “के माध्यम से इस किताब की जानकारी समझ में आई होगी फिर भी अगर आप इस किताब को खुद से पढ़ाना चाहे तो मैं link प्रोवाइड कर रही हूं आप इस लिंक के जरिए इस किताब को ऑर्डर कर सकते हैं ।

Must buy 👇👇👇

18 Minutes by Peter Bregman

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Follow by Email
YouTube
Pinterest
LinkedIn
Share
Instagram