Power of Placebo effect/Placebo effect in hindi

Power of Placebo effect/Placebo effect in hindi

मनोविज्ञान को चकमा देने की एक कला है Placebo effect  आज इस लेख में (Power of Placebo effect/Placebo effect in hindi ) जाने वाले हैं ।

यह जो चमत्कार आप देखते हैं कि कोई  बाबा या फकीर ने जड़ी-बूटी देकर या भभूति देकर किसी व्यक्ति को ठीक कर दिया आपको लगता है कि यह चमत्कार है अगर आप विज्ञान की नजर से देखें तो इसे चमत्कार नहीं कहते हैं मनोविज्ञान को चकमा देने का यह एक तरीका है ।

Power of Placebo effect/Placebo effect in hindi

 

Placebo effect क्या है?

एक ऐसा ट्रीटमेंट है जिसमें पेशेंट को लगता है कि उसका सही में ट्रीटमेंट हो रहा है लेकिन ट्रीटमेंट होता नहीं है ।इसमें मरीज को फर्जी इंजेक्शन , निकली गोली और कई ऐसे ट्रीटमेंट किए जाएंगे जिसमें मरीज को लगेगा कि उसका ट्रीटमेंट चल रहा है । ऐसा सिर्फ ढोंगी लोग ही नहीं करते हैं कि नकली गोली दे दी है या कुछ भभूति दे दिए और कह दिए कि आप ठीक हो जाएंगे । ऐसा डॉक्टर भी करते हैं क्योंकि उन्हें मनोविज्ञान का अध्ययन करना होता है ।

वैज्ञानिक प्लेसीबो का प्रयोग क्यों करते हैं ?

जब कभी भी नई दवाई आती है उसका प्रभाव कितना मरीज पर पड़ेगा यह देखने के लिए कुछ मरीजों को असली दवाई दी जाती है और कुछ मरीजों को नकली ।इसमें कई बार परिणाम सकारात्मक मिलता है तो कई बार नकारात्मक ।

क्या प्लेसिबो इफेक्ट के डिसएडवांटेज भी होते हैं ?

जी हां , इसके दुष्ट परिणाम भी होते हैं विश्वास में इतनी शक्ति होती है कि अगर आप कोई चीज में विश्वास रखते हैं तो उसके पॉजिटिव केमिकल्स आपके अंदर पाए जाते हैं और उसका परिणाम आपको अच्छा ही मिलता है लेकिन अगर आपको इसी पर विश्वास नहीं रखते हैं तो आपका शरीर खुद नेगेटिव केमिकल्स रिलीज करता है और उसके परिणाम भी आपको नकारात्मक ही मिलते हैं ।इसमें आपको कई बीमारियां देखने को मिल सकती है जैसे कि अच्छे से नींद ना आना , खाना डाइजेस्ट नहीं होना ,डिप्रेशन

Power of Placebo effect/Placebo effect in hindi 

प्लेसिबो इफेक्ट क्या है ? जिसके जरिए मरीज ठीक हो सकता है और चमत्कार हो सकता है ।मैं आपको बताऊंगी की डॉक्टर झूठ बोलकर मरीजों को कैसे ठीक कर देते हैं ।कई बार आपने सुना होगा कि कोई बाबा ने भभूति देकर या कोई संत ने चमत्कारी ताबीज देकर मरीजों को ठीक किया है ऐसा कैसा हो सकता है ?

हो सकता है कि कई मरीज आपके सामने ठीक हो गए हो पर विज्ञान इस बात की पुष्टि नहीं करता है कि कोई साधारण ताबीज या भभूति खाकर ठीक हो सकता है तो चलिए जानते हैं कि इसके पीछे का राज क्या है ?

किसी व्यक्ति की हजारों बीमारियों को ठीक करने की शक्ति रखता है प्लेसिबो इफेक्ट क्योंकि यह कांसेप्ट है जो हमें बताता है कि सबसे बड़ा दवाखाना आपके भीतर ही है ।

यदि आप महंगी दवाइयां खा खा कर परेशान हो गई हो तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें और जानें कि कैसे आप अपनी प्रॉब्लम्स को जड़ से खत्म कर सकते हैं

प्लेसिबो इफेक्ट के बारे में साइंस क्या कहता है ?

इसे जाने के बाद आप अपनी इम्यूनिटी सिस्टम को बढ़ा सकते हैं और जीवन की तमाम दिक्कतों को ठीक कर सकते हैं ।

कई बार आपने देखा होगा कि फकीर ने भभूति दी तो इंसान की समस्या का समाधान मिल गया या किसी ज्योतिषी ने आपको स्टोन पहनने को दे दिया तो उसके बाद से आपकी परेशानियां खत्म हो गए असल में ऐसा क्यों होता है आज इस लेख के जरिए आप जाने वाले हैं तो इस लेख .. को अंत तक पढ़े और अपने सभी सवालों के जवाब पाए ।

सेकंड वर्ल्ड वॉर एक सैनिक बुरी तरह से घायल हो गया था उसका दर्द कम नहीं हो रहा था । उसे सर्जरी कराने के लिए ले जाया गया ।

पहले मॉर्फिन नाम का इंजेक्शन दिया जाता था जिससे मरीज को दर्द कम होता था क्योंकि एनेस्थीसिया का जन्म नहीं हुआ था ।इलाज के दौरान मॉर्फिन खत्म हो गया लेकिन सैनिक को बचाना था इसलिए डॉक्टर ने झूठ कहा ।

डॉक्टर ने उस सैनिक को कहा कि मैंने तुम्हें मॉर्फिन का इंजेक्शन दे दिया है । कमाल की बात तो यह है कि उस सर्जरी में सैनिक को बिल्कुल तकलीफ नहीं हुई ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उसके ब्रेन ने यह बात मान ली थी कि उसे दर्द कम करने की दवा दे दी गई है ।

दोस्तों इंजेक्शन और मेडिसिन में केमिकल होता है और वह अपना कार्य भी करती हैं लेकिन सबसे बड़ा रोल हमारा ब्रेन और उसकी पावर करती है ।

सर्जरी सही सलामत हो गई और सैनिक ठीक भी हो गया ।

कई बार स्टडी की गई उसमें साबित हुआ है कि जब मरीज अपनी मेडिसिंस में यकीन नहीं करते हैं तो वहा मेडिसिन अपना असर करना बंद कर देती है ।

एक रिसर्च में मरीजों को झूठी दवाई देकर कहा जाता है कि इस दवाई से आपको आराम आ जाएगा और यहां बात वह मरीज भी मान लेते हैं कि दवाई खाने के बाद मुझे आराम आ जाएगा देखा गया है कि वहां मरीज अपने भरोसे से ठीक हो जाते हैं ।

दूसरी तरफ कुछ मरीजों को सही दवाई दी गई फिर भी उनका विश्वास मेडिसिंस पर नहीं था इसलिए वे दवाई खाने के बावजूद भी ठीक नहीं हो पाए ।

यदि आप सही में अपने जीवन में परिवर्तन चाहते हैं और दवाइयों को अपने आप से दूर रखना चाहते हैं तो पहले समझे कि प्लेसिबो इफेक्ट होता क्या है और इसकी सहायता से आप अपनी जिंदगी में परिवर्तन कैसे ला सकते हैं ।

Can mind heal you body?

क्या मस्तिष्क आपके शरीर को ठीक कर सकता है ?

Can mind heal you body? क्या मस्तिष्क आपके शरीर को ठीक कर सकता है ?

1. Positive attitude ( सकारात्मक रवैया)

एक स्टडी के दौरान डॉक्टर को यह बात पता लगी कि जिन पेशेंट्स को उन्होंने ओरिजिनल दवाई दी थी उसे कुछ मरीज तो ठीक हो गए पर कुछ मरीज ओरिजिनल दवाई खाने के बावजूद भी ठीक नहीं हुए ऐसा क्यों ?

जब deep analyse किया गया तो पता चला कि जो मरीज डॉक्टर पर यकीन करते हैं और उन पर भरोसा रखते हैं कि वह डिप्रेशन जैसी बीमारी से भी लड़ सकते हैं और जीवन में कामयाब हो सकते हैं , वह तेजी से ठीक हो रहे थे ।

वहीं दूसरी ओर जो लोग सोचते हैं कि डॉक्टर सिर्फ पैसे ले रहे है , इनकी दवाई हम पर असर नहीं कर रही है वे लोग बीमार ही रहे और मन ही मन वे लोग सोचते हैं कि डिप्रेशन जैसी बीमारी जिससे लग गई वह कभी ठीक नहीं हो सकता और जीवन में कभी आगे नहीं बढ़ सकता ।

डॉक्टर का कहना है जो लोग सकारात्मक रवैया रखते हैं वहां जल्दी ठीक हो जाते हैं और जो लोग नकारात्मक रवैया रखते हैं वहां लंबे समय तक बीमारी में घिरे रहते हैं ।

सकारात्मक विचार अपने अंदर बार-बार प्रवेश करें । ऐसा करने से आप सकारात्मक रवैया रखना लग जाएंगे ।

2. faith( विश्वास )

एक गांव में वर्षा नहीं हो रही थी जिसके कारण गांव वाले बेहद परेशान थे । गांव वालों को कहा गया है कि यज्ञ करने के बाद बारिश होने लग जाएगी । वहां सब लोग यज्ञ करने के लिए पहुंचे लेकिन एक लड़की छाता लेकर वहाँ पहुंची उसका विश्वास था कि यज्ञ करने के बाद बारिश जरूर होगी ।

     faith moves mountain       

आपने सपेरे को देखा होगा कि सांप के काटने के बाद भी उसे अपनी जड़ी बूटियों पर इतना यकीन रहता है कि वह ठीक हो जाएगा तो आप ठीक हो भी जाता है ।आपने कई बार अंगारों पर चलते हुए लोगों को देखा होगा उनका अपने कुलदेवता पर इतना यकीन होता है कि उन्हें दर्द का पता ही नहीं चलता ।

विवेकानंद ने इस बात की पुष्टि की है कि हमारे भीतर ही इतनी शक्तियां हैं कि जिसके सहारे हम अपने जीवन के तमाम दर्द को दूर कर सकते हैं ।

जितना हम इस बात पर यकीन करते हैं कि यह दवाई मेरे रोगो को दूर नहीं कर सकती अगर इस बात पर करें कि यहां रोग मेरा कुछ नहीं बिगाड़ सकता मैं जल्द ही ठीक हो जाऊंगा । ऐसे सकारात्मक विचार और उसमें यकीन रखने से आप कोई भी समस्या का सामना कर सकते हैं और उसमें सफल भी हो सकते हैं ।

Affirmation और visualisation की सहायता से आप के जरिए सभी बीमारियों को जड़ से भगा सकते हैं ।

Also read 👇👇

Best parenting Tips 2023 /जिद्दी बच्चो की परविरश कैसे करे ? / How to raise successful kids ?

कैसे अपने जीवन को पूरी तरह बदले ?Mindset Book Summary (How to Change the Mindset )

3. Process create result –

दो ग्रुप बनाए गए A ग्रुप के लोगों की ओरिजिनल सर्जरी हुई और B ग्रुप वाले लोगों की fake सर्जरी हुई । fake सर्जरी के दौरान उसे एडमिट कराया गया फिर भी बिहोशी का इंजेक्शन लगाया गया और उसके सर्जरी हुई है । fake सर्जरी के दौरान बॉडी में कट किया गया ऐसा करने से Patient को यकीन हुआ कि उसकी सर्जरी हुई है ।

यह देखा गया है कि जितना फायदा ओरिजिनल सर्जरी वाले पेशेंट को हुआ है उतना ही फायदा झूठी सर्जरी वाले पेशेंट को भी हुआ ।

देखिए दोस्तों जब भी आप दवाइयां लेते हैं तो सिर्फ आप दवाइयां ही अपने अंदर नहीं ले रहे होते आप कई विश्वास को अपने अंदर ले रहे होते हैं ।

जब आप ऐसा सोचते हैं कि मेडिसिन खाने से कई मरीज ठीक हुए हैं तो मै भी हो जाओगा ।एक सकारात्मक विचार भी आपके अंदर उत्पन्न होता है ।दवाइयों के साथ आप डॉक्टर का विश्वास भी अपने अंदर लेते हैं कि आप ठीक हो जाएंगे ।

जैसे कि इस स्टेप का नाम है प्रोसेस क्रिएट रिजल्ट -प्रोसेस को बारीकी से समझे हर एक बीमारी को ठीक करने का एक प्रोसेस होता है ।

हमारा ब्रेन कार्यकर्ता है हमारे अंदर लगातार रक्त flow हो रहा है ।हमारे शरीर के सब अंग लगातार कार्य कर रहे हैं ।

4 . Personality of Doctor

एक research के दौरान पता लगा है कि पेशेंट्स ज्यादातर डॉक्टर की पर्सनैलिटी पर ध्यान देते हैं और उनका कहा मानते हैं ।डॉक्टर का कहना मानना भी चाहिए क्योंकि डॉक्टर को भगवान का दर्जा दिया गया है ।पेशेंट को दो ग्रुप में बांटा जाता है A ग्रुप के पेशेंट को डॉक्टर खुद पेन किलर देता है और B ग्रुप के पेशेंट को नर्स दवा दे दी है देखा गया है कि 90% patientजो डॉक्टर से दवा ले रहे थे वहां ठीक हो गए जबकि वही दवाई B ग्रुप वालों को भी दी जा रही थी ।

डॉक्टर पर विश्वास करना बहुत अच्छी बात है लेकिन अपने भीतर के डॉक्टर पर भी विश्वास करें जब आप विश्वास के साथ दवाई लेते हैं तब आप अपने आप को स्वस्थ बना रहे हैं इसलिए अपने अंदर के विश्वास को जगाए और अपने आप को स्वस्थ रखें ।

उम्मीद है आपको यह लेख Power of Placebo effect/Placebo effect in hindi  की जानकारी पंसद आई होगी । आप उन लोगों के साथ यह  लेख शेयर करना ना भूले जो बीमारियों  में घिरे हुए हैं ।

अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद😊🙏

Related Posts

2 thoughts on “Power of Placebo effect/Placebo effect in hindi

Comments are closed.

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Follow by Email
YouTube
Pinterest
LinkedIn
Share
Instagram