The Psychology of money book summary in hindi

The Psychology of money book summary in hindi

The Psychology of money book summary in hindi 

इस लेख में The Psychology of money book summary in hindi  आप बहुत ही महत्वपूर्ण बातों को समझेंगे । इस बुक के ऑथर Morgan housel को काफी awards मिल चुके थे। उन्होंने काफी लोगों की जिंदगी में परिवर्तन लाया है।

The Psychology of money book summary in hindi

चलिए जानते हैं ऐसा कौन सा गुण है जिसको जानने के बाद हम पैसा कमाने के गुण को और भी बढ़ा सकते हैं और अपनी आर्थिक स्थिति को लगातार बेहतर बना सकते हैं।
कहते हैं कि पैसों के मामले में सफल होने के लिए आपको क्या नॉलेज है और कितनी नॉलेज है इसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप उस नॉलेज से कैसे व्यवहार करते हैं।

उस ज्ञान से आप कैसे फायदा उठाते हैं।
इसे theory   के रूप में समझाना थोड़ा मुश्किल है । यहां तक कि काफी इंटेलिजेंट लोगों को भी समझा नहीं में  दिक्कत होती है।
रुपए ,पैसे का निवेश सही जगह पैसे कहां लगाने हैं और कहां नहीं लगाने हैं इन सब बातों का फैसला हमें प्रैक्टिकल लाइफ में ही समझ आती है।
कल बार नए-नए और अन्य पैसों से जुड़े हुए फैसले कैसे लेने हैं यह हमें पढ़ाई के क्षेत्र में तो कुछ और ही देखते हैं पर जब हम जिंदगी में अपने खुद फैसले लेते हैं तब हमें ज्ञान आता है कि पैसा कैसे invest करना है कहां करना है कितना करना है और क्यों करना है ?

वास्तव में जब हमें निर्णय लेने होते हैं तब हम कोई spreadsheet नहीं बनाते हैं बल्कि अपने पुराने अनुभव और सलाह मशवरा लेकर ही हम कार्य शुुुरू कर देेेेते है ।

चालिए ये जानते हैं कि ऐसे क्या है इस लेेख में The Psychology of money book summary in hindi जिसके जरिए आपके जीवन में खुशहाली आएगी।

धन वह नहीं है जो आप कमाते हैं बल्कि वह है  जिसको आप सहेज कर रख सकते हैं अक्सर लोगों को कहते हुए आपने सुना होगा 4 दिन की जिंदगी है खाओ पियो और ऐश करो यही उनकी नादानी है ।

जोश में लोग अपनी  मेहनत की कमाई को ऐसे ही नष्ट कर देते हैं । बुद्धिमानी पैसों को उड़ाने में नहीं बल्कि सही जगह invest करने में और saving करने में होती है।

लेखक ने The psychology of money book में दो व्यक्तियों के बारे में बात बताई है पहला व्यक्ति सफलता की बुलंदियों को कम उम्र में ही छू लिया।

लोगों उन्हे काफी समझदार और बुद्धिमान समझते थे लेकिन लेखक कहते हैं कि जो नाता उनका पैसों के साथ था मुझे बहुत ही बचकाना लगता था क्योंकि वह हर समय नोटों की गड्डी अपने साथ लेकर घूमते थे और हर एक को दिखाते थे ।

एक बार उन्होंने एक आदमी को कहा कि यह नोटों की गड्डी लो और सोने के सिक्के लेकर आओ।

जब वह सोने के सिक्का लेकर आता है तो अपने मनोरंजन के लिए वह मुर्ख व्यकित कहता हैं चलो समुद्र के किनारे बैठे हैं और देखते हैं कौन कितनी दूर यह सोने का सिक्का फेक सकता है ।

आपकी सोच रहे होंगे कि कैसा आदमी था जो सोने के सिक्के उछालने को कह रहा है। जी हां वह अपने मनोरंजन के लिए ऐसे कार्य करते रहता था।

अब आप आपके मन में सवाल आ रहा होगा कि आखिर कब तक यह सिलसिला चलेगा ? जाहिर सी बात है अगर ऐसे कार्य कोई भी करेगा तो लंबे समय तक उसके पास पैसा नहीं टिकने वाला।

ऐसे व्यक्ति भविष्य में सिर्फ अपना नुकसान ही नहीं करेंगे बल्कि अपने परिवार का भी नुकसान करेंगे क्योंकि इनकी किए गए कार्यों से इनके ऊपर सिर्फ कर्जा ही चढ़ेगा।

वहीं दूसरी तरफ ऐसे कई लोग आपको मिल जाएंगे जिन्होंने पढ़ाई कम की है पर उनके पैसे के साथ relation बहुत  अच्छा है । उन्हें समझ है कि पैसे का उपयोग कहां और कब करना है।

लेखक ने The Psychology of money  में कहा है कि पैसे को कमाना मुश्किल नहीं है उसको सहेज कर रखना मुश्किल कार्य होता है। ऐसी ही एक सच्ची कहानी इस लेख (The Psychology of money book summary in hindi )के जरिए मैं आपको बताने वाली हूं।

क्या आपने Ronald James का नाम सुना है ? एक अमेरिकी परोपकारी और निवेशक थे । एक समय में वहां चौकीदार और गैस स्टेशन प्रचारक भी रहे।
उनका जन्म एक छोटे से घर में हुआ और वह अपने घर के पहला सदस्य थे जिन्होंने हाई स्कूल तक पढ़ाई की। जो लोग उन्हें जानते थे उनकी नजर में वह एक मामूली इंसान थे।
बहुत साल मामूली नौकरी करने के बाद उन्होंने 38 साल में $12000 में दो बेडरूम वाला घर लिया और जीवन वही बिताया।

उनकी मृत्यु 52 वर्ष में हुई। इस व्यक्ति ने अंतरराष्ट्रीय सुर्खियां बटोरी थी। 2014 में जिन अमेरिकी लोगों की मौत हुई उनमें से ऐसे 4000 लोग थे जिनकी आमदनी 8 मिलियन डॉलर  से ज्यादा हो।
क्या आप जानते हैं ronald का नाम भी शामिल था । उन्होंने 2 बिलियन डॉलर अपने बच्चों के नाम और 6 मिलियन डॉलर हस्पताल और पुस्तकालय के  लिए छोड़े ।

उनको जाने वाले सारे आश्चर्यचकित थे ना ही  उनकी लॉटरी निकली थी ना ही कोई वसीयत थी । असल मे वह जितना पैसा बचा सकते थे वह हमेशा बचाते थे और ब्लू चिप स्टॉक में इन्वेस्ट करते थे।

धैर्य के साथ कई दर्शकों तक उन्होंने invest किया और एक समय के बाद उनकी छोटी सी बचत 8 मिलियन डॉलर हो गई।

Ronald की मृत्यु होने से पहले एक और आदमी काफी प्रसिद्ध था जिन्होंने हावर्ड शिक्षित MBA डिग्री यह सब था। फाइनेंस में अधिक ज्ञान भी था।
Richard इतना ज्ञानी होने के बावजूद पैसे को सही से invest नहीं कर पाया।

आदतों के कारण वह कर्ज लेने की आदत हो गई और एक दिन उसका हाल इतना बुरा हो गया है कि सब जमीन जायदाद घर सब बेचना पड़ गया।

एक बार उन्होंने बातों ही बातों में कहा कि अब कोई भी उनके पास आय कमाने का जरिया नहीं रह गया है । उनके बंगले, बीच सब बिक गए।

इस कहानी के माध्यम से यह बात स्पष्ट होती है कि कैसे एक अनपढ़ आदमी भी पैसे के साथ अच्छा रिलेशन रख सकता है और अपना जीवन बदल सकता है और  एक तरफ आपको यहां समझ आता है कि एक पढ़ा-लिखा व्यक्ति भी पैसों के साथ रिलेशन अच्छा रखने में असमर्थ हो सकता है।

Richard fuscone ने MBA किया था Howard से और वहां एक सक्सेसफुल बिजनेसमैन था । उन्हें फाइनेंस का भी काफी ज्ञान था पर अपनी बुरी आदतों के कारण और भी  फिसुलखर्ची के कारण उनका दिवाला निकल गया।

समझने वाली बात यह है कि आप इन दो व्यक्तियों से क्या समझते हैं ? हम सब अपनी असल लाइफ में भी ऐसे काफी लोगों को देखते हैं जिनके पास नॉलेज होती है ।

ज्ञान होता है वह पढ़े लिखे होते हैं पर फिर भी उनका पैसों के साथ रिलेशन सही नहीं होता और वह जल्द ही गरीब हो जाते हैं।

दूसरी तरफ ऐसे लोग होते हैं जो कम पढ़े लिखे होते हैं ना ही उनके पास कोई वसीयत होती है और ना ही कोई हाई-फाई डिग्री फिर भी वह पैसा कमाना जानते हैं और अपनी लाइफ अच्छे से जीते हैं।

लेखक कहते हैं कि आप कितने स्मार्ट हो आप अपने पैसों के साथ कैसा behave करते हो यह मायने रखता है ना कि आपके पास कितना नॉलेज है और आप कितने समझदार है।

लेखक कहते हैं कि हमारा व्यवहार पैसों के साथ  अच्छा होना चाहिए क्योंकि ऐसा देखा गया है कि काफी लोग जिनको Business, Investment का ज्ञान है फिर भी वह सही निर्णय नहीं ले पाते । उन्हें मालूम ही नहीं है कि पैसों के साथ कैसा relation रखना चाहिए ।

हम सब जानते हैं कि अगर हम स्टॉक मार्केट में पैसा लगाएंगे या कोई ऐसी जगह जिससे हम 30 या 40 साल बाद एक अच्छी amount प्राप्त कर सकते हैं । वह पैसा लगाने की जगह हम पैसे का उपयोग गलत जगह करते हैं ।

हम सोचते हैं आज को जी ले और यही बात लेखक The Psychology of money   में  समझाना चाहते हैं कि आप को समझना चाहिए कि  पैसे को सहेज कर रखना ज्यादा important है।

जानते तो सब है कि व्यापार के समय हमें अधिक मात्रा में उधार नहीं लेना चाहिए । हम यह भी जानते हैं कि स्वास्थ्य का इंश्योरेंस कराना चाहिए पर आप में से कितने लोग हैं जो यह रूल्स फॉलो करते हैं ?

बातों को समझना और सही कार्य करना यह बहुत महत्वपूर्ण बात होती है ।समझ में तो हमें आता है कि कहां निवेश करना है और इंश्योरेंस भी कराना है पर हम में से बहुत कम लोग होंगे जो सही समय सही निर्णय लेते हैं।

The psychology of money book के अध्याय को समझिए– (The Psychology of money book summary in hindi )

Chapter 1

No one’s crazy

लेखक कहते हैं कोई भी व्यक्ति पागल नहीं होता उन्हें मालूम होता है कि पैसे के साथ कैसा व्यवहार रखना है। इसलिए कुछ लोग shares में पैसा लगाते हैं तो कुछ लोग  provident fund में।

हर कोई अपने एक्सपीरियंस के अनुसार अपना पैसा invest करता है क्योंकि उन्हें लगता है कि वे सही कर रहे हैं इसलिए कोई भी इंसान पागल नहीं होता है।

Chapter 2

Luck and risk

लेखक कहते हैं कि बहुत लोग अमीर के घर में पैदा होते हैं तो उनका automatic ही जीवन खुशहाल रहता है जैसे कि बिल गेट्स।

अगर आपका जन्म भी उस परिवार में हुआ होता तो आप भी lucky होते  पर लेेेखक कहते हैं कि हम लोग luck के सहारे तो नहीं बैठ सकते ।

हमें कोई ना कोई कार्य तो करना ही होगा क्योंकि luck को कंट्रोल नही किया जा सकता है ।

ना ही हम इसके सहारे बैठ सकते हैं कि कब हमारा लकी समय आएगा।

बात करें risk की तो जीवन में रिस्क तो लेना ही पड़ता है पर लेखक कहते हैं कि अगर आपके calculate risk लेेेेगे तो जीवन में सुधार आ सकता है।

कुछ लोग कंफर्ट जोन में रहना चाहते हैं इसलिए वहां 9 से 5 की जॉब को स्वीकार करते हैं और आपने कुछ लोगों को ऐसा भी देखा होगा कि वह अपना बिजनेस चलाते हैं और खुद का बॉस बनते हैं ।

रिस्क लेना अच्छी बात है पर calculate  risk हो तो आप अपना जीवन खुशी से बिता भी सकते हैं ।

The Psychology of money book summary की समझने वाले Points

Chapter 3

Never enough

देखा गया है कि काफी अमीर व्यक्ति संतुष्ट नहीं होते हैं चाहे उनके पास बंगले पैसे भी हो तो वह चाहेंगे कि हमारे पास island भी होना चाहिए उनकी लालच कभी खत्म नहीं होती है।
लालच बुरी बला है इसलिए आदमी को गोल बनाना चाहिए कि मैं अपनी लाइफ में इतना पैसा कमा लूंगा और moral principles के साथ रहूंगा।

Chapter 4

comfounding

लेखक ने Warren Buffett का example दिया है वह ऐसे शेयर purchase करते थे जो कई गुना बढ़ कर उनको मुनाफा देते थे ।  इसी कारण वह इतने अमीर हो गए।

सही जगह पैसा बार-बार invest करने से जल्द ही आप भी अमीर हो सकते हो।

Chapter 5

Getting wealthy vs staying wealthy

आपने देखा ही होगा कि कई खिलाड़ियों और फिल्म स्टार सितारों का कभी दिवालिया निकल जाता है क्योंकि उन्हें मालूम ही नहीं होता है कि कैसे इन्वेस्टमेंट करनी है।

लेखक कहते हैं कि पैसा कमाना तो आसान है लेकिन उसे संभालकर और सहज कर रखना मुश्किल है।

Also read👇

The millionaire fastlane book Summary

Chapter 6

Tails you win

लेखक कहते हैं कि अगर आप सिकके को उछलते हो  तो हो सकता है कि टेल्स ना मिले पर अगर आप सिक्के को बार-बार उछालोगे तो हो सकता है कि आपको टेल्स मिल जाए इसी तरीके से व्यापार होता है।

अगर कोई बिजनेस में आप फेल हो गए हो तो उस बिजनेस को बार-बार करते रहे जब तक आप सफल ना हो जाओ।

कहा जाता है कि एक बार में कामयाबी और सफलता किसी को नहीं मिलती तो बार-बार दोहराते रहो जब तक आप कामयाब ना हो जाओ।

Chapter 7

freedom

काफी लोग ऐसे हैं जो जानते हैं कि पैसा कैसे कमाना है पर उन्हें आजादी नहीं होती तो वह कभी enjoy भी नहीं कर पाते।

दिन भर काम करने के बाद अगर आपको आजादी नहीं मिल पा रही है और आप enjoy नहीं कर पा रहे हो तो ऐसा पैसा किस काम का जो आपको कुछ पलों की खुशी ना दे पाए।

Chapter 8

Man in the car paradox

लेेेखक कहते हैं जब भी कोई व्यक्ति महंगी कार में घूमता है तो लोग उस कार को देख कर कहते हैं cool और कभी भी उस कार के मालिक की  तारीफ नहीं करते बल्कि काफी लोग  निंदा करने लग जाते हैं ।

लेखक का कहना है अगर आपके पास ज्यादा पैसे हैं तो आप नए एक्सपीरियंस हासिल करें, किसी की मदद करें या घूमने निकल जाए जिससे आपकी लाइफ में अच्छी यादें बन जाएंगी और आपको खुशी मिलेगी।

Chapter 9

wealth is what you don’t see

लेखक कहते हैं हम उन लोगों को अमीर मानते हैं जिनके पास महंगी गाड़ियां, बंगले और ब्रांडेड कपड़े होते हैं पर असल में हम वेल्थ को देख ही नहीं पाते जैसे इन्वेस्टमेंट , प्रॉपर्टी ।
अगर आपके दोस्त के पास इतनी इनकम है जितनी कि आपके पास है पर उसने एक कार खरीद ली जिसकी कीमत ₹1000000 है ।

उसकी इनकम आपकी इनकम से 1000000 कम हो गई है ।अमीर दिखने के चक्कर में उसके 1000000 कम हो गए इसलिए wealthy बनने की कोशिश करें न कि अमीर दिखने की ।

Chapter 10

Save money

बचत के मामले में 3 type के लोग सामने आते हैं  पहले जो सोचते हैं कि उन्हें बचत करने की जरूरत नहीं है ।

दूसरे जो सोचते हैं कि वह बचत कभी नहीं कर सकते ।
तीसरे वह जो बचत करते हैं।पहले और दूसरे टाइप के व्यक्ति अपने बुढ़ापे में दूसरों पर निर्भर रहते हैं और उनका बुढ़ापा भी बहुत खराब पीता है इसलिए तीसरे टाइप की व्यक्ति को पसंद अपनी बनाएं और आज से ही invest करना शुरू कर दे और सेव करना शुरू कर दें।

Chapter 11

reasonable or rational

लेेेखक कहते हैं कुछ लोग इतना विचार करते हैं कि जीवन में कुछ कर ही नहीं पाते ।

अगर आप perfection के चक्कर में आएंगे तो जीवन में कुछ हासिल नहीं कर पाएंगे । इसलिए जो है उसे शुरुआत कीजिए धीरे-धीरे आप परफेक्ट भी बन जाएंगे और इनकम भी  आने लग जाएंगे।

Chapter 12

Surprise

इंसान को जिंदगी में surprise के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए क्योंकि जो कंपनी अच्छी चल रही है  हो सकता है किसी के घोटाले के कारण वह कंपनी डूब जाए ।

आपने देखा ही है हाल ही में करोना के कारण काफी लोगों का नुकसान हुआ है इसलिए surprise के लिए हमेशा ready रहना चाहिए।

Chapter 13

room for error

लेखक कहते हैं आप जिस जगह निवेश कर रहे हैं हो सकता है कि उसमें आप गलती करें इसलिए एक साथ कभी भी पूरा पैसा ना लगाएं।
Warren Buffett ने कहा cash is the king उदाहरण के लिए वह कहते हैं कि yes Bank जब डूबा था तो काफी निवेशकों का नुकसान हुआ था पर उन्होंने कम रेट पर शेयर खरीद लिए तो उनका ज्यादा नुकसान नहीं हुआ इसलिए बुरे समय के लिए कुछ पैसा रखना ही चाहिए ।

Chapter 14

you will change

इस किताब के जरिए आपको यह समझ आएगा कि जरूरी नहीं है कि अगर आपके exam में कम मार्क्स आए हैं तो आप जीवन में कुछ नहीं कर पाओगे।

आपने सुना ही होगा कि आजकल जो चाय वाले हैं वह franchise बेंच कर करोड़ों कमा रहे हैं इतना तो कोई डॉक्टर भी नहीं कमा रहा होगा तो आप बातों में ना आए कि अगर आप के मार्क्स कम आए हैं तो आप जीवन में कुछ नहीं कर सकते ।

आप कोई भी बिजनेस शुरू कर सकते हैं और अच्छी जिंदगी जी सकते हैं ‌।

The Psychology of money book summary in hindi

Chapter 15

Nothing is free

हम सब जानते हैं पैसा कमाने के लिए पैसा चाहिए होता है कुछ भी आपको मुफ्त में नहीं मिलता । अगर आपके पास बिजनेस करने के लिए पैसा नहीं है तो कोई भी छोटी-मोटी नौकरी कर  आप पैसे जोड़ें और फिर अपने बिजनेस में लगाएं ।

ऐसे ही कई सुपरस्टार ने छोटे-मोटे जॉब करके पैसे इकट्ठा किए और आज उनका नाम पूरे जगत में है। कुछ भी मुफ्त में नहीं होता है इसलिए कार्य करना शुरू करें।

Chapter 16

you and me

पैसा कमाना अकेले का काम नहीं है इसलिए जितना वैल्यू हम अपने आप को देते हैं उतनी वैल्यू हमें दूसरे को देना पड़ेगी।

अगर आप introvert है तो लोगों से कैसे Deal  करना है यह को जाना पड़ेगा और अपने ego को साइड में रखते हुए दूसरे को respect देना सीखे क्योंकि जब आप ऐसे करते हैं तब ही सामने वाला व्यक्ति भी इमानदारी और दिल से काम करता है।

Chapter 17

seduction of pessimism

blind optimism होना गलत है हम सब जानते हैं कि आशावादी अगर रहेंगे तो हम कामयाबी को हासिल कर सकते हैं पर अधिक मात्रा में आशावादी होना यह गलत होता है।
उदाहरण के लिए अगर कोई बच्चा पढ़ाई ही नहीं करता और वह आशा रखता है कि पास हो जाएगा तो यह संभव ही नहीं है।
आपको देखना होगा कि कौन सा कार्य मुश्किल है और आसानी से नहीं हो सकता फिर उसमें अपना  skill बढ़ाइए और लगातार मेहनत कीजिए।
इसलिए optimism और pessimism balance बनाकर चलें तभी सफल हो पाएंगे।

Chapter 18

 you will believe anything


कई बार हमारे समझने की शक्ति में भी गलती हो सकती है जैसे कुछ लोग news सुनते हैं और उसे सच मान लेते हैं वैसे ही कई कंपनियां अपने जानकारी को पब्लिश करा दे हैं ताकि लोग उनके ज्यादा से ज्यादा शेयर ले। इसलिए हर चीज पर आंख बंद कर  विश्वास नहीं करना चाहिए। खुद बैलेंस शीट और डॉक्यूमेंट analysize करें ताकि आप जान सके कि असली position क्या है ?

Chapter 19

all together now

इस अध्याय में सब चैप्टर को summarise किया गया है

  • हमेशा humble रहे ।
  • ego ने पाले ।
  • ऐसे फाइनेंशियल डिसीजन ले जिससे आपको mental peace मिले ।
  • टाइम की पावर को समझें एक ही बार में ही कोई rich नहीं बन जाता ।
  • हार को एक्सेप्ट करना सीखें और कभी भी हिम्मत ना हारे।
  • पैसे को सही जगह इन्वेस्ट करने की आदत बनाएं।
  • सब कुछ होते हुए भी संत जैसे जीवन बिताएं।

Chapter 20

confession the psychology of money summary in Hindi
इस अध्याय में नौजवानों के लिए लेखक का संदेश है कि अपनी पूरी salary मौज मस्ती में ना उठाएं।
कम लागत वाली चीजों में खुशी ढूंढे जैसे कि exercise, reading , learning आदि।
कर्जा लेकर कोई भी व्यवसाय ना शुरू करें पहले कुछ साल छोटा बिजनेस करके पैसे जोड़ें तब ही कुछ बड़ा करने का प्रयास करें।

उचित जगह निवेश करें ताकि भविष्य में आप का परिवार और बच्चे का जीवन secure रहेे ।

Also Read👇👇

The Gift oF Imperfection book Summary in Hindi

रिच डैड पुअर डैड बुक समरी | Rich Dad Poor Dad Summary in Hindi

निष्कर्ष

लेखक ने  The Psychology of money book summary in hindi में money को कैसे और कहां invest करना है यह समझाया गया है।

देखा गया है कि काफी लोगों को पैसे के साथ सही relation रख पाते है। अगर पैसे के साथ अच्छा रिलेशन नहीं रखेंगे तो वह आपके हाथों में नहीं दिखेगा इसलिए सोच समझ कर फैसला ले।

आशा करती हूं The Psychology of money book summary in hindi का  लेख आपको पसंद आया होगा। अगर पसंद आया हो तो लाइक शेयर और कमेंट करना ना भुलना..धन्यवाद🙏😊

Related Posts

One thought on “The Psychology of money book summary in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Follow by Email
YouTube
Pinterest
LinkedIn
Share
Instagram