Pros and cons of Meditation

Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान )

मेडिटेशन करना चाहते हैं ? लेकिन आप बार-बार भटक जाते हैं तो इस लेख Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान ) में बताई गई बातें को अपनाएं और मेडिटेशन करना सीखें ।

Contents

Pros and cons of Meditation

जिस इंसान को मेडिटेशन के बारे में नहीं मालूम होता वहां सोचता है कि मेडिटेशन मतलब प्रार्थना करना ।

प्रार्थना करना अलग बात होती है लेकिन मेडिटेशन अलग है ।मेडिटेशन से इंसान को आत्मिक शक्ति मिलती है ।

मेडिटेशन द्वारा इंसान के अंदर जागरूकता बढ़ती है ।

15 मई को हम सब विश्व मेडिटेशन दिवस बनाते हैं ।

मेडिटेशन की शक्ति💪💪

मेडिटेशन से  अनेक फायदे आपको मिल सकते हैं ।मेडिटेशन की सहायता से आप स्वस्थ और खुश रह सकते हैं ।

जिसे कार्य में अपना फोकस लगाना चाहते हैं उस कार्य में अपना फोकस लगा पाएंगे ।

इस लेख में आपको Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान ) पढ़ने को मिलेंगे ।

मेडिटेशन द्वारा आप अपने तनाव को कम कर सकते हैं क्योंकि आजकल के तनाव भरे माहौल में अपने आप को स्वस्थ रखना है तो मेडिटेशन का सहारा लेना ही होगा ।

योग से जो लोग जुड़े होते हैं उन्हें मेडिटेशन का महत्व मालूम होता है ।इसका मुख्य कारण क्या है कि वह दिनचर्या में मेडिटेशन को शामिल करना नहीं भूलते हैं ।

मेडिटेशन का मतलब क्या है ?

जब व्यक्ति ध्यान की मुद्रा में बैठा हुए अपने सांसों को सुन पाता है और पक्षियों की ध्वनि अच्छे से सुन पा रहा है उसे ही मेडिटेशन कहते हैं ।

जब आप सही तरीके से मेडिटेशन करना सीख जाएंगे तो आपको अन्य किसी प्रकार का अनुभव नहीं होगा ।

जब व्यक्ति शांत मन से मेडिटेशन करता है तो उसको सिर्फ अपनी सांसों की आवाजे आती है और अन्य कोई विचार उसे disturb नहीं करता ।

लेकिन बहुत से मेरे ऐसे दोस्त हैं जिन्हें मेडिटेशन करते समय दिक्कत महसूस हो रही है ।आप भी उन दोस्तों में से एक हैं इसलिए यह लेख Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान )पढ़ रहे हैं ।

पहले मैं आपको ऐसे टिप्स और ट्रिक्स बताती हूं जिसकी सहायता से आप मेडिटेशन कर पाएंगे और मेडिटेशन के अनगिनत फायदे महसूस कर पाएंगे ।

आज मेडिटेशन से जुड़ी हर एक बातें आपको समझ जाएंगी ।कृपया इस लेख Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान )को अंत तक पढ़े और मेडिटेशन से जुड़े हर एक सवाल को अच्छे से समझा ।

मेडिटेशन कितने प्रकार का होता है ? 😯 

मेडिटेशन के कई प्रकार है जिसे आप अपने जीवन में जोड़कर अनगिनत फायदे ले सकते हैं ।

  • माइंडफुल मेडिटेशन
  • कुंडलिनी ध्यान
  • मंत्र मेडिटेशन
  • ज़ेन मेडिटेशन

1. माइंडफुलनेस मैडिटेशन –

इसमें इंसान वर्तमान में जागरूक रहता है ।जो व्यक्ति mindfulness मेडिटेशन के साथ जुड़ा है वह हमेशा अपने सतर्क रहता है ।

इस अभ्यास में आप अपने आजू-बाजू की हो रही गतिविधियों में फोकस करते हैं जिससे आपका दिमाग और मन शांत रख सकते हैं । Mindfulness मेडिटेशन आप किसी भी जगह कर सकते हैं ।

2. कुंडलिनी ध्यान –

यह ध्यान एक ऐसा ध्यान है जिसके करने से आप अपने आप को पहले से active रख सकते हैं ।इसमें गहरी सांस लेना ,मंत्रों का उच्चारण और कुछ मूवमेंट्स भी होते हैं ।

सही तरीके से मंत्रों का उच्चारण करना और मूवमेंट्स को करने के लिए लोग classes भी लेते हैं ।

ऐसा इसलिए करते हैं कि मंत्रों का उच्चारण करते समय या मूवमेंट करते समय उनसे कोई गलती से भी गलती ना हो ।

अच्छे से सीख जाने के बाद आप कुंडलिनी ध्यान को घर में भी कर सकते हैं ।

3. ज़ेन मेडिटेशन –

आप जेन मेडिटेशन का अभ्यास किसी प्रोफेशनल जगह से या गुरुकुल से लें तो बेहतर है ।

बौद्ध परंपरा का हिस्सा जेन मेडिटेशन को माना जाता है ।

कुछ क्रियाएं तो आसान है लेकिन कुछ क्रियाएं करना आसान नहीं है अगर आप सीख जाते हैं तो आपका दिमाग शांत रहेगा और सोचने समझने की शक्ति बढ़ जाएगी ।

इस मैडिटेशन को करने से काफी फायदा मिलता है इसमें शरीर और दिमाग दोनों relax हो जाते हैं ।

Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान )

4. मंत्र मेडिटेशन

इस मैडिटेशन से आप अपने आप को नेगेटिव एनर्जी से बचा सकते हैं ।बहुत से लोग नेगेटिव एनर्जी के कारण ही अपनी जिंदगी खुलकर नहीं जी पाते ।मंत्र दो अक्षर से मिलकर बना है और यहां संस्कृत का शब्द है ।

मं का अर्थ है  “सूचना “और  “मस्तिष्क ” वही त्र का मतलब है ‘से मुक्त करना ‘ या ‘ रक्षा करना ‘ ।

मेडिटेशन करने का क्या उद्देश्य होता है ? 🙄 

मेडिटेशन करने का उद्देश्य है कि इंसान के अंदर उदारता , प्रेम , करुणा  ,क्षमा जैसे गुण उत्पन्न हो ।

मेडिटेशन के दौरान इंसान का ध्यान केवल उसकी सांसों में होता है इससे आपको फोकस करने में भी सहारा मिलता है ।

इंसान 1 दिन में 70,000 विचार अपने मन में लाता है उन 70000 विचारों में इंसान उलझ कर रह जाता है । जब इंसान मेडिटेशन करता है तो उसका उद्देश होता है कि वह अपने लक्ष्य की ओर जा सके ।

जब इंसान अपनी सांसों में ध्यान केंद्रित कर पाता है तो उसे अंदरूनी शक्ति मिलती है और वह शक्ति से अपने लक्ष्य को भी पा लेता है तो मैडिटेशन का उद्देश्य है । इंसान अपने लक्ष्य तक पहुंच भी जाए और अपने आप को स्वस्थ रख पाए ।

मेडिटेशन शुरू कैसे किया जाता है ?Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान )

तनाव को कम करने के लिए लोग मेडिटेशन का सहारा लेते हैं लेकिन एक बात ध्यान रखें यदि आप हमेशा टेंशन में ही रहेंगे तो उस समय मेडिटेशन नहीं कर पाएंगे ।

पहले अपने आपको रिलैक्स करें फिर मेडिटेशन करना शुरू करें ।कुछ पल में अपने आपको रिलैक्स कर लेंगे फिर आप मेडिटेशन आसानी से कर लेंगे ।

Also read 👇👇

Know your personality( Introvert, Extrovert,Omnivert,Ambivert)

Inspirational stories of real life heroes in hindi( Khan sir and Priya Singh)

शुरुआत में मेडिटेशन करते समय दिक्कत होगी लेकिन घबराइए मत जैसे जैसे आप meditate करते जाएंगे आप अपने आप महसूस करेंगे कि अब कोई कठिनाई नहीं हो रही है ।

दोस्तों कहते हैं ना कोई भी कार्य अपने  दिनचर्या में जोड़ना आसान  नहीं होता लेकिन चाहे इंसान तो क्या नहीं कर सकता !😅

मेडिटेशन को आप सही समय और सही तरीके से करना सीख जाएंगे तो आपको meditate करते समय दिक्कत नहीं होगी ।

Meditation Tips (मैडिटेशन या ध्यान कैसे करते है )

एक बार इंसान जब मेडिटेशन करना सीख जाता है तो वह इसके अनगिनत फायदे महसूस करता है ।मानसिक और शारीरिक रूप से आप तनावमुक्त महसूस करेंगे ।

कोई  समस्या नहीं होगी यदि आप मेडिटेशन का तरीका सही  अपनाएंगे ।

इस लेख में Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान ) मैं ऐसी आपको महत्वपूर्ण जानकारी देने जा रही हूं जिसके जरिए आप मेडिटेशन करते समय दिक्कत महसूस नहीं करेंगे ।

सांसों पर ध्यान कैसे लगाएं?

1. Posture का ख्याल रखें –

मेडिटेशन करने के लिए कोई भी अवस्था का चयन कर सकते हैं ।

कुछ लोगों की अवस्था खड़े होकर मेडिटेशन या लेट कर बैठकर मेडिटेशन ही होती है इसके फायदे और नुकसान भी हैं ।

दोस्तों एक ही तरह की अवस्था ना रखें बेहतर होगा की अवस्था आप बदलते रहे ।

Also read 👇👇👇

Life mey Self-Image ki kya importance hai?

13 Best Time Management Tips(samay ka sadupyog kaise kare)

Standing posture ( खड़े होकर मेडिटेशन करना )

जो लोग पालती मारकर मेडिटेशन नहीं कर पाते हैं उनके लिए खड़े होकर मेडिटेशन करना सही रहेगा ।

मेडिटेशन का उद्देश्य है कि अपने मन को शांत रखना और ध्यान केंद्रित करना ।

खड़े होकर मेडिटेशन करने से आप अपनी भुजाओं को अपनी सुविधानुसार रख सकते हैं ।

इसमें आप अपने चेहरे और दृष्टि को अपनी सुविधानुसार  किसी भी दिशा में रख सकते हैं ।

Reclining posture (लेटकर मेडिटेशन करना )

यह मेडिटेशन आप एक तरफ लेट कर करते हैं ।मान लेते हैं कि आप दाई साइड हो कर लेते हैं ।इसमें आपका दाया हाथ आपके सिर के नीचे और बाया हाथ आपके शरीर  के ऊपर होगा।

आप चाहे तो दाया हाथ सिर के नीचे रखने की जगह आप तकिया का भी इस्तेमाल कर सकते हैं ।

seated posture (बैठकर मेडिटेशन करना ) –

कई स्थितियां है जिसमें आप बैठ कर मेडिटेशन कर सकते हैं जैसे कि कोई पद्मासन लगाना ठीक समझता है तो कोई पालती लगाकर या फिर वज्रासन में बैठना ठीक समझता है ।

आप अपनी इच्छा से किसी भी स्थिति में बैठ सकते हैं ।

जब आप बैठकर मेडिटेशन करें तो ध्यान रहे कि आपका सीना तना हो और आपकी गर्दन झुकी ना हो ।

2 . Relaxation (ध्यान लगाते समय अपने मन को शांत रखें ) –

अक्सर देखा गया है कि विचारों में इंसान फंस जाता है और मेडिटेशन नहीं कर पाता इसलिए अपने विचारों को अपने कंट्रोल में करें क्योंकि जब जीवन आपका है तो विचार में कंट्रोल भी तो आपको ही होना चाहिए ।

Pros and cons of Meditation

आपको अपने अंदर एक विचार उत्पन्न करना है और उसमें सोचना है कि आप तनावमुक्त हैं और आप खुश हैं ऐसी स्थिति में जब आप मेडिटेशन करेंगे तो आपको फायदे अनेक मिलेंगे ।

3 . अभ्यास करते रहे

कई लोग ऐसे हैं जो मेडिटेशन करना तो चाहते हैं लेकिन कर नहीं पाते आपके मन में चाहे ऑफिस की समस्या हो या घर की उलझन उसे कुछ वक्त के लिए अपने दिमाग से दूर कर दें और अपने सांसों की आवाज में ध्यान लगाएं ऐसा करने से आप मेडिटेशन कर पाएंगे और इसके अनगिनत फायदे आपको मिलेंगे ।

Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान )

4. मेडिटेशन के लिए शांत जगह का चयन करें –

जिस जगह इंसान को आत्मिक शांति मिले उस जगह मेडिटेशन करना बेहतर रहेगा ।

दोस्तों आपको ऐसी जगह देखनी है जहां दीवारों में गहरा रंग ना हो ना ही ज्यादा फीका रंग ।

मन को जहां शांति मिले आपको ऐसी जगह मेडिटेशन के लिए choose करनी है ।

अच्छा होगा कि आप प्रकृति के साथ जुड़ जाएं और वहां मेडिटेशन करें मेरे कहने का तात्पर्य है कि कोई ऐसी जगह जो शोर -शराबे और तनाव मुक्त हो ।

5. एक time fix करे –

मेडिटेशन करने का एक समय निर्धारित करें । यदि सुबह करने में दिक्कत आ रही है तो एक ऐसा समय का चयन करें जिसमें आप meditate आराम से कर पाए । रोजाना एक ही समय में meditate करने से आपको मेडिटेशन करने की आदत पड़ जाएगी ।

6. मेडिटेशन के लिए सबसे उचित समय सुबह का माना गया है जितना जल्दी आप उठकर मेडिटेशन करेंगे उतना ही आप दिनभर तरोताजा रहेंगे ।

7. मेडिटेट करते समय कोई विचार आपको परेशान कर रहा है तो उसे दबाना उचित नहीं है उसे उबारने दें और जाने कि आपके अंदर क्या क्या छुपा है ।

8. सांस ऐसे ही लेनी है जैसे कि आप आमतौर पर लेते हैं ।

9 . अपने मन को शांत रखकर मेडिटेशन करना शुरू करें । जिस तरह से आप शांति से मेडिटेट किए हैं वैसे ही अन्य कार्य करें ।

10. Meditation करने के बाद खुद से सवाल करें कि कैसा महसूस हो रहा है ? जवाब अपको Positive ही मिलेगा।

11. आपको एक बात का ख्याल रखना है जब भी आप मेडिटेशन करने लगे आपको हरबड़ी नहीं करनी है ।

12. जब मेडिटेट करने की इच्छा ना हो तो आप खुद अपने मन को समझाएं कि meditation करने के कितने फायदे होते हैं ।

13. अगर आप मेडिटेशन करने समय अकेलापन महसूस हो रहा है तो आप पार्टनर के साथ भी कर सकते हैं । ग्रुप मेडिटेशन में भी मेडिटेशन करने से फायदा होता है आप चाहे तो ग्रुप मेडिटेशन भी कर सकते हैं ।

14. मेडिटेशन करते समय एक बात का ख्याल अपने दिमाग में रखें कि उस दौरान ना ही आपको अपने आपको और ना ही किसी और को बुरा भला कहना है ।

15. मेडिटेशन शुरू करने से पहले गहरी सांस ले और कुछ व्यायाम कर ले ।

16. मेडिटेशन करने से पहले हल्का खाना खाएं ।

17. मेडिटेशन के दौरान अपने चेहरे में मुस्कान बनाए रखें ।

FAQ [Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान ) ]

Q .ध्यान करते समय क्या सोचना चाहिए ?

Ans.ध्यान करते समय आपको सकारात्मक विचार ही सोचने चाहिए ।

Q. मन को शांत करने के लिए मेडिटेशन कैसे करें?

Ans. दृढ़ संकल्प के साथ आप एक शांत जगह में बैठे हैं और आंखें बंद करके आपको सिर्फ अपने सांसों पर ध्यान केंद्रित करना है। ऐसा आप 20 मिनट तक कर सकते हैं इससे आपके मन को शांति मिलेगी।

Q. मेडिटेशन कैसे किया जाता है?

Ans. एक शांत जगह में बैठकर बिना व्याकुल हुए मैडिटेशन किया जाता है।

Q. मेडिटेशन करने से पहले क्या करना चाहिए?

Ans. मेडिटेशन से पहले warm up लेना चाहिए ।

उम्मीदें दोस्तों आपको मेडिटेशन से जुड़े हर सवाल का जवाब मिल गया होगा यदि यह लेख Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान )आपको यह लाभदायक लगा हो तो इससे शेयर करना ना भूले ।

Related Posts

One thought on “Pros and cons of Meditation ( मेडिटेशन के फायदे और नुकसान )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Follow by Email
YouTube
Pinterest
LinkedIn
Share
Instagram