Android vs IOS Group Discussion in Hindi

Android vs iOS: Kaun Jeetega? – Android vs iOS Group Discussion in Hindi

Android vs IOS “debate लंबे समय से चलती आ रही है कि एंड्रॉइड बेहतर है कि आईओएस वैसे तो लंबे समय से इस विषय पर चर्चा जारी है क्या आप भी जाना चाहते हैं कि android vs ios whichone is better तो इस लेख Android vs iOS Group Discussion in Hindi को अंत तक पढ़े ।

आईओएस और एंड्रॉइड दोनों ही अच्छे और सुरक्षित ऑपरेटिंग सिस्टम माने जाते हैं ।लेकिन कौन सा ऑपरेटिंग सिस्टम आपके लिए ज्यादा सुरक्षित माना जाएगा यह जानना जरूरी है ।

Android vs iOS Group Discussion

आम तौर पर IOS को  ज्यादा सुरक्षित ऑपरेटिंग सिस्टम माना गया है ।

जानने के लिए बेकरार तो आप जरूर होंगे !क्यों आईओएस को अधिक सुरक्षित ऑपरेटिंग सिस्टम कहा जाता है चलिए आपकी उत्सुकता को ज्यादा ना बढ़ाते हुए हम बताते हैं

क्लोज सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है iOS इसी कारण एप्पल का कोड पर पूरा कंट्रोल होता है ।

इसी वजह से हैकर्स आसानी से bug का पता नहीं लगा पाते ना ही फोन को हैक कर पाते हैं ।

यही मैं एंड्रॉइड की बात करूं तो यहां एक ओपन ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसकी वजह से

कोड को आसानी से कोई भी देख सकता है और उसे मॉडिफाई कर सकता है ।

हैकर्स आसानी से कोड को देखकर ,सिक्योरिटी कमजोर कर सकते हैं ।

Android vs IOS Group Discussion in Hindi

Android vs IOS Difference (Android vs IOS Group Discussion in Hindi )

*सख्त वेटिंग प्रक्रिया

एप्पल अपने  उपयोगकर्ताओं को वही एप्स डाउनलोड करने की आज्ञा देता है जो उनके लिए हानिकारक नहीं रहेंगे ।एप्पल अपने एप स्टोर में एक सख्त वेटिंग प्रक्रिया से यह सुनिश्चित करता है की कहीं कोई ऐप यूजर्स के लिए हानिकारक तो नहीं ।

दूसरी ओर अगर गूगल की बात करें तो गूगल अपने प्ले स्टोर में ऐसा कोई सख्त वेटिंग प्रक्रिया नहीं है

सख्त वेटिंग प्रक्रिया ना होने के कारण गूगल को आए दिन कोई ना कोई एप्स को ban करना पड़ता है ।

इसी कारण से आए दिन गूगल एप्स को ban करता रहता है ।

*Permission (परमिशन )

एंड्रॉयड यूजर्स प्राइवेसी को लेकर चिंतित रह सकते हैं क्योंकि जब भी एंड्रॉइड यूजर्स ऐप को अनुमतियां देते हैं तो यूजर्स के पास कम कंट्रोल होता है जबकि आईओएस यूजर्स के पास सब सुविधा होती हैं कौन सा ऐप क्या एक्सेस की परमिशन मांग रहा है ,उन्हें मालूम होता है जिसकी वजह से वह अपनी प्राइवेसी की रक्षा कर सकते हैं ।

कुल मिलाकर अगर एक बात पर स्पष्ट करना हो कि एंड्राइड या आईओएस कौन सा बेहतर है तो हम आईओएस की तरफ ही रहेंगे जबकि एंड्राइड ने अपने अपडेट में काफी सुधार लाया है ।

अभी भी iOS को Android की तुलना में काफी अच्छा माना जाता है ।

समय के साथ बदलाव आना तो तय ही है , आने वाले समय में फिर बताएंगे कि आईओएस और एंड्रॉइड में कौन बेहतर है ?

iPhone vs Android phone which is better?

अक्सर ऐसा होता है कि हमें बेहतर से बेहतर चीज ही पसंद आती है इसलिए हम अपनी जिंदगी में एक चीज की तुलना दूसरी चीज से करते हैं ताकि हम समझ सके कि कौन सी ज्यादा बेहतर है।

बात हो नया सामान खरीदने की या फिर जिंदगी में कुछ खरीदने की हम हमेशा तुलना करते हैं ताकि हम सही चीज का चुनाव कर पाएं।

दोस्तों जैसे-जैसे नई फीचर्स लॉन्च होते जाते हैं वैसे-वैसे इंसान कंफ्यूज हो जाता है कि कौन सा फोन उसके लिए बेहतर है iPhone या Android phone।

हम सब जानते हैं मोबाइल के प्लेटफार्म तीन है iOS, Android और Windows.

Windows phone कोई सदा इस्तेमाल नहीं करता है लेकिन एक स्मार्टफोन खरीदने वक्त हमेशा मन में ख्याल आता है कि एंड्रॉइड ले या आईओएस

आज आपके तमाम चिंताओं का अंत होगा क्योंकि आप समझ सकेंगे की एंड्रॉइड ले या आईओएस

Difference between Android vs IOS 

1.Android Phone में कस्टमाइजेशन करना है आसान जैसे की यूजर अपने हिसाब से lock screen बदल सकते हैं ,थीम बदल सकता है , icons को एक जगह से दूसरी जगह ले जा सकता है , इत्यादि।

वही बात करें आईफोन की तो इसमें कुछ ही फीचर्स है जो यूजर अपने अनुसार बदल सकता है।

Android vs IOS Group Discussion in Hindi

2. आपने देखा ही होगा कि एंड्रॉइड डिवाइस आपको मार्केट और ऑनलाइन दोनों जगह मिल जाते हैं ,उनकी शुरुआती कीमत 3000 से 60000 तक की होती है ।

हर व्यक्ति अपने बजट अनुसार एंड्रॉइड फोन खरीद सकता है ।

वही बात करो आईफोन की तो इसके डिवाइस ऑप्शन बहुत कम मिलते हैं ।हर साल सिर्फ दो मॉडल देखने को मिलेंगे और आपको बाजार में आईफोन मिलने से रहा , इसे ऑनलाइन ही purchase किया जा सकता है ।

आईफोन की शुरुआती कीमत 40,000 से 50,000 तक की होती है ,हर कोई इतना afford नहीं कर पाता इस कारण से भी बहुत से लोगों के पास आईफोन नहीं है इसलिए मुख्य रूप से एंड्रॉइड फोन को प्राथमिकता मिलती है ।

3 .एंड्रॉयड फोन में आसानी से हम एक फाइल को दूसरे एंड्रॉइड फोन में शेयर कर सकते हैं ।एंड्रॉइड फोन में शेयरिंग ऑप्शन इतने अच्छे से दिए होते हैं जिसके जरिए एक ऐप से दूसरे एप में कोई फाइल ट्रांसफर करते समय यूजर को बिल्कुल तकलीफ नहीं होती

एंड्राइड यूजर ब्लूटूथ के जरिए या थर्ड पार्टी एप shareit के जरिए आसानी से फाइल को ट्रांसफर कर सकता है और प्राप्त कर सकता है ।

4 . एंड्राइड यूजर एक वक्त पर दो से तीन कार्य कर सकता है जबकि आईफोन यूजर एक वक्त में एक ही कार्य कर सकता है ।

Multitasking एंड्राइड यूजर कर सकता है जबकि यह सुविधा आईफोन यूजर को के पास नहीं है ।

You may also like this👇👇👇

Janiye is powerful tech ki rahasya :Android kya hota hai?

Jeevan Ki Raah Mein Khud Se Prem:love yourself as your life depends on it

5.एंड्रॉइड फोन के यूजर्स के पास अलग-अलग डिजाइन और रंग के फोन मार्केट में मिल जाते हैं लेकिन वही बात करो आईफोन यूजर्स की तो उनके पास लिमिटेड डिजाइन और कलर्स अवेलेबल होते हैं ।

आईफोन यूजर्स कौन सा मॉडल use कर रहे हैं यह समझ ही नहीं आता क्योंकि उनके फोन का  डिजाइन और कलर same ही रहते हैं

IPhone Android के मुकाबले बेहतर कैसे हैं?

1 . आईफोन यूजर्स को Software Updates जल्द ही दिख जाता है क्योंकि लिमिटेड मॉडल होते हैं और कंपनी को मालूम है कि सॉफ्टवेयर अपडेट्स देना है

इसलिए जैसे ही नया वर्ज़न लॉन्च होता है वह पुराने वर्ज़न में भी सॉफ्टवेयर अपडेट का ऑप्शन प्रोवाइड कर देते हैं

जबकि एंड्रॉइड यूजर्स के पास सॉफ्टवेयर अपडेट का ऑप्शन सिर्फ Nexus phones में देखने को मिलता है और दूसरे एंड्रॉयड यूजर्स सिर्फ इंतजार में रहते हैं कि उन्हें कब सॉफ्टवेयर अपडेट का ऑप्शन दिखेगा ।

iPhone software updates के मामले में एंड्रॉइड से बेहतर है

3. iPhone के यूजर्स को Play store में बहुत सारे apps मिल जाते हैं वह भी बेहतरीन क्वालिटी में जबकि एंड्रॉइड यूजर्स को प्ले स्टोर से एप्स मिलते हैं लेकिन उनकी क्वालिटी आईफोन मोबाइल की क्वालिटी से कम होती है ।

4.कैमरे क्वालिटी की बात करें तो आईफोन की कैमरा क्वालिटी बेहद लाजवाब है आईफोन की कैमरे की क्वालिटी DSLR camera से की जाती है ।

वही  Android smartphone की कैमरा क्वालिटी की बात करें तो ठीक-ठाक कैमरा क्वालिटी होती है ।

5. iPhone के यूजर्स को यह सुविधा है कि एक बार मोबाइल खरीदने के बाद अगर उनके फोन में कोई खराबी आती है तो पहले Apple store जा सकते हैं और अगर उनका फोन वहां ठीक नहीं होता है तो उनके पुराने फोन के बदले उन्हें नया फोन दिया जाएगा ।

दूसरी तरफ Android phone की बात करें तो फोन में दिक्कत आने पर आपको Customer care से बात करनी पड़ेगी , अगर वहां कोई समाधान नहीं मिलता है तो आपको repairing center या service center ले जाना पड़ेगा ।

मोबाइल ठीक होता है तो बहुत अच्छा , नहीं तो कंपनी वाले कोई जिम्मेदारी नहीं लेते हैं ।

FAQ related to Android vs iOS Group Discussion 

Q.IOS बेहतर क्यों है?

Ans.IOS में पहले से प्री इंस्टॉल एप्स कम होते हैं जो डिवाइस को बेहतर प्रदर्शन करने की अनुमति देते हैं । अपने अनुभव को बेहतर बनाने के लिए उपयोगकर्ता आईफोन के प्री -इंस्टॉल एप्स को हटा भी सकता है ।

Q.एंड्राइड और आईफोन में क्या अंतर है?

Ans . IPhone और Android का मुख्य अंतर है कि एंड्रॉइड ओपन सोर्स सॉफ़्टवेयर पर based होते है लेकिन iPhone नही ।

उम्मीद है आपके यहां लेख “Android vs IOS Group Discussion in Hindi ” की जानकारी पसंद आई होगी ,कृपया इस लेेख  ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और लोगों तक विशेष जानकारी पहुंचाएं ।यदि आपका कोई सुझाव है तो जरूर कमेंट सेक्शन में बताइएगा ,अपना कीमती समय देने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया 💕💕💕😊🙏🙏

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Follow by Email
YouTube
Pinterest
LinkedIn
Share
Instagram